जम्मू-कश्मीर: एलओसी के पास मारे गए पांच आंतकवादी

जम्मू-कश्मीर। जम्मू-कश्मीर के बारामूला जिले में शुक्रवार सुबह सेना ने एनकाउंटर में तीन आंतकवादियों को मार गिराया। इसके बाद दो और आतंकवादियों को ढेर करने में सफलता मिली। इस तरह शुक्रवार को पांच आतंकियों को मार गिराने में सुरक्षा बलों को सफलता मिली है।ये सभी आतंकवादी नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास मारे गए हैं। उनके पास से सेना के जवानों ने चार एके 47 रायफल और चार खाने से भरे बैग बरामद किए हैं। आतकंवादियों और सेना के बीच अभी मुठभेड़ जारी है।
सेना को बारामूला के बोनियार में आतंकियों के घुसपैठ की जानकारी मिली थी। शुक्रवार सुबह सेना के जवान यहां पहुंचे और आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ शुरू हुई। फायरिंग में सेना ने कुल पांच आतंकियों को मार गिराया। अभी सेना का सर्च अभियान लगातार जारी है।
300 आतंकी सक्रिय होने की सूचना
इससे पहले सेना के एक अधिकारी ने बताया था कि घाटी में अभी करीब 300 आतंकी सक्रिय हैं और करीब 250 आतंकी लॉन्चपैड पर सीमा पार से घुसपैठ की फिराक में हैं। मीडिया से बात करते हुए लेफ्टिनेंट जनरल ए के भट्ट ने भी कहा था कि कश्मीर घाटी में 300 से अधिक आतंकी सक्रिय हैं। वहीं सीमा और एलओसी से सटे पाकिस्तानी टेरर लॉन्च पैड्स पर करीब 250 आतंकियों के मौजूद होने के इनपुट मिले हैं।
बढ़ा दी गई थी चौकसी
सूत्रों ने बताया कि आतंकी राज्य में घुसपैठ कर आतंकी गतिविधि को अंजाम देने की ताक में हैं। सेना के उच्च अधिकारी ने बताया कि इस खबर के बाद सेना अलर्ट पर है और आतंकी मंसूबों को नष्ट करने के लिए पूरी तरह तैयार है। आतंकी हमले की आशंका के मद्देनजर आर्मी, पुलिस, सीआरपीएफ समेत सभी सुरक्षा बलों ने अपनी सक्रियता बढ़ा दी थी। आतंकवादियों को घाटी में घुसने से रोकने के लिए आर्मी ने अपनी चौकसी भी बढ़ा दी गई थी।
गुरुवार को हुआ था आईईडी हमला
सेना की 55 राष्ट्रीय राइफल्स के कुछ जवान गुरुवार रात पुलवामा के लसीपोरा इलाके में पट्रोलिंग कर रहे थे। इसी दौरान एक ब्रिज को क्रॉस कर रहे जवानों को देखकर आतंकियों ने पहले से लगाई एक आईईडी में ब्लास्ट किया, जिसकी चपेट में आने से कई सैन्यकर्मी गंभीर रूप से घायल हो गए। यही नहीं ब्लास्ट के बाद वाहन सवार सैनिकों पर ताबड़तोड़ फायरिंग भी की गई। इस घटना के बाद यहां मौजूद सेना के जवानों ने भी आतंकियों पर जवाबी कार्यवाही की।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »