अयोध्या पर जमीयत की पुनर्विचार याचिका में वकील राजीव धवन को हटाया

नई दिल्‍ली। अयोध्या विवाद में मुस्लिम पक्ष की ओर से पेश होने वाले एडवोकेट राजीव धवन को जमीयत द्वारा दाखिल की गई पुनर्विचार याचिका में वकील नहीं बनाया गया है। धवन ने इस मामले में वकील एजाज मकबूल पर मुस्लिम पक्ष में दरार डालने का आरोप लगाया है।
‘मैं नहीं चाहता कि मुस्लिम पक्षकार अलग हों’
जमीयत के कदम पर प्रतिक्रिया देते हुए वकील राजीव धवन ने कहा, ‘मैं वहां मुस्लिम पक्षकारों के बीच समस्या को हल करने के लिए नहीं खड़ा हुआ था। मैं नहीं चाहता कि वे अलग हों। मैंने उनके लिए पूरी तरह से एक यूनिट के रूप में बहस की। मैं मुस्लिम पक्षकारों को बंटते हुए नहीं देखना चाहता हूं। यह उनके ऊपर है कि वह समस्या का किस तरह हल निकालते हैं।’
उधर वकील एजाज मकबूल ने कहा, ‘मुद्दा यह है कि मेरे क्लाइंट यानी की जमीयत कल (सोमवार को) रिव्यू पिटीशन दाखिल करना चाहते थे। यह काम राजीव धवन को करना था। वह उपलब्ध नहीं थे इसलिए मैं पिटीशन में उनका नाम नहीं दे पाया। यह कोई बड़ी बात नहीं है।’
मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड धवन को बनाएगा वकील!
अभी यह भी कहा जा रहा है कि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड और अन्य मुस्लिम पक्ष राजीव धवन को अपनी पुनर्विचार याचिका में वकील बना सकते हैं। राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ एक मुस्लिम पक्षकार ने सोमवार को रिव्यू पिटीशन दाखिल की। जमीयत उलेमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना सैयद असद रशीदी की ओर से दाखिल याचिका में कहा गया कि विवादित 2.77 एकड़ जमीन रामलला को सौंपने और मस्जिद के लिए दूसरी जगह 5 एकड़ जमीन देने के फैसले में खामियां हैं। इस बीच मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सचिव जफरयाब जिलानी ने कहा है कि इस मामले में एआईएमपीएलबी 9 दिसंबर से पहले पुनर्विचार याचिका दाखिल करेगा।
राजीव धवन के समर्थन में उतरा पर्सनल लॉ बोर्ड
जमीयत के कदम के बाद पर्सनल लॉ बोर्ड धवन के समर्थन में उतरा है। बोर्ड के प्रवक्ता खालिद सईफुल्लाह रहमानी का कहना है कि राजीव धवन इंसाफ और एकता के प्रतीक हैं। बाबरी मस्जिद मामले में उनके असाधारण प्रयासों के लिए लॉ बोर्ड उनका आभारी है। उम्मीद है कि रिव्यू पिटीशन दाखिल होने पर वह फिर हमारी नुमाइंदगी करेंगे।
मैंने रिव्यू का वैकल्पिक ड्राफ्ट तैयार कर लिया था: धवन
राजीव धवन ने कहा, ‘जमीयत ने मुझे हटाने की जो वजह बताई है, वह झूठी है। मैं डेंटिस्ट के पास रूटीन चेकअप के लिए गया था। मैं रिव्यू पिटीशन पर काम कर रहा था। मैंने एक वैकल्पिक ड्राफ्ट तैयार कर लिया था। हम कल मिलने वाले थे और मैंने कोर्ट का काम रोक दिया था जिससे कि इस ड्राफ्ट को तैयार कर लिया जाए। इसी बीच ऐडवोकेट ऑन रेकॉर्ड एजाज मकबूल ने मुझे हटा दिया। मैंने इसे स्वीकार कर लिया है। अब इस मामले में रिव्यू याचिका से मैं खुद को अलग कर रहा हूं।’
राजीव धवन को जमीयत ने नहीं बनाया वकील
हालांकि राजीव धवन ने यह भी कहा कि उनकी जमीयत के साथ कोई अनबन नहीं है। बता दें कि अयोध्या विवाद में मुस्लिम पक्ष की ओर से पेश होने वाले एडवोकेट राजीव धवन को जमीयत द्वारा दाखिल की गई पुनर्विचार याचिका में वकील नहीं बनाया गया है। राजीव धवन ने सोशल मीडिया पर पोस्ट लिखकर इस बारे में बताया है।
राजीव धवन के मुताबिक अरशद मदनी ने संकेत दिए हैं कि मुझे खराब स्वास्थ्य के कारण हटाया गया है। यह पूरी तरह से बकवास है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »