आरएसएस की तर्ज पर संगठन खड़ा कर रहा है जमीयत उलेमा-ए-हिंद

विश्व स्तरीय इस्लामिक संस्था जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने भारत भर में मुस्लिम युवाओं का एक बड़ा संगठन तैयार करने की तैयारी शुरू की है। इस कोशिश को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की तर्ज पर स्वयंसेवक तैयार करने के रूप में देखा जा रहा है।
जमीयत यूथ क्लब के नाम से बने इस संगठन के विस्तार के पहले फेज में पांच राज्यों से 16 जिलों के मुस्लिम युवाओं को खास ट्रेनिंग दी गई है। संगठन का दावा है कि ये सभी मुस्लिम युवा समाज के लिए तमाम तरीकों से सकारात्मक दिशा में काम करेंगे।
आम लोगों के लिए काम करेगा संगठन
संगठन के प्लान के मुताबिक हर साल साढ़े बारह लाख युवाओं को जोड़कर 2028 तक देश के सौ जिलों में से सवा करोड़ युवाओं को प्रशिक्षित किया जाएगा। इसके लिए भारत स्काउट एवं गाइड से सहयोग भी लिया जा रहा हैं। इस संबंध में दो दिन पहले सबसे बड़े इस्लामिक केंद्र देवबंद में पूर्व राज्यसभा सदस्य मौलाना महमूद मदनी ने पश्चिमी यूपी, हरियाणा और गुजरात समेत अलग-अलग प्रदेशों के 100 युवाओं के एक जत्थे का प्रदर्शन कर अपने इरादे स्पष्ट किए हैं। संगठन का कहना है कि आने वाले वक्त में युवाओं के इस संगठन के जरिए आम लोगों के हित और सुरक्षा की दृष्टि से काम किया जाएगा।
युवाओं को दी जाएगी स्काउट मास्टर की ट्रेनिंग
इस योजना के तहत अगले छह महीने में दस हजार युवाओं को जमीयत यूथ क्लब से जोड़कर राष्ट्र और मानव सेवा करने के लिए तैयार किया जाएगा। जिस तरह देवबंद में कई प्रदेश के 100 युवाओं ने बतौर ट्रायल अपनी कला का प्रदर्शन किया, उसी तरह फरवरी 2019 में यूथ क्लब के सदस्य अपनी कला का सार्वजनिक तौर पर बड़ा प्रदर्शन करेंगे। इसके अलावा जनवरी 2019 तक देश के 100 जिलों से 3200 युवाओं को स्काउट मास्टर की ट्रेनिंग दी जाएगी। इस अवधि तक संगठन का विस्तार तमाम जिलों में भी किया जाएगा और आने वाले 10 वर्षों में सवा करोड़ से अधिक युवाओं को इस संगठन से जोड़ने का प्रयास किया जाएगा।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »