जयपुर आगरा की Flight फिर होगी शुरू: सिविल सोसायटी

आगरा। धनौली में बनाये जाने को प्रस्‍तावित सिविल एयर टर्मिनल का उपयोग कर वायुयान से ताज सिटी की यात्रा करने की चाह रखने वालों की हसरत पूरी होने में भले ही कुछ समय और लग जाये किन्‍तु जमीन अधिग्रहण और उस पर बाऊंड्रीवाल बनाये जाने का महत्‍वपूर्ण चरण तेजी के साथ पूरा होने की ओर अग्रसर है। एयरपोर्ट की डायरेक्‍टर श्रीमती कुसुम दास ने धनौली, बल्‍हेरा और अभयपुरा गांव में भू अधिग्रहण के बाद बाऊंड्रीवाल बनाये जाने के काम का जायजा लिया तथा इसमें तेजी लाये जाने की अपेक्षा की।
श्रीमती दास शीघ्र ही आगरा प्रशासन से निर्माण को प्रस्‍तावित इस नये सिविल एन्‍कलेव तक कोट -आगरा स्‍टेट हाई वे (जगनेर रोड) से सहज और सुविधा जनक पहुंच संभव बनाये जाने के लिये प्रशासन के साथ वार्ता करेंगी और पूर्व में इसके लिये चल रहे प्रयासों को गति देने का आग्रह करेंगी।
सिविल सोसायटी आगरा के जनरल सैकेट्री अनिल शर्मा और जर्नलिस्‍ट राजीव सक्‍सेना ने सुश्री दास से खेरिया एयफोर्स स्‍टेशन स्‍थित उनके कार्यालय में मुलाकात कर अपेक्षा की कि नये सिविल एन्‍कलेव के प्रोजेक्‍ट को एन्‍वायरमेंट क्‍लीयरैस दिलवाने का कार्य शीघ्रता से करवाया जाये। इस पर सुश्री दास ने बताया कि एन्‍वायरमैंट क्‍लीयरैंस करवाने का काम एयरपोर्ट अथार्टी के द्वारा एक कंसल्‍टैंट को दिया हुआ है। उम्‍मीद है कि यह औपचारिकता भी शीघ्रता के साथ पूरी होगी। उन्‍होंने कहा कि अधिग्रहित की गयी ज्‍मीन का अधिकांश भाग खेतो का या ऊसर है। जहां पेड हैं ही नहीं , जो हैं उन्‍हें यथा संभव क्षति नहीं पहुंचने दी जायेगी। एक जानकारी में उन्‍होंने कहा कि नये सिविल एन्‍कलेव की कार्ययोजना को बनाते समय शुरू से ही इसकी स्‍थिति ताज ट्रपेजियम जोन में होने का ध्‍यान रखा गया था। उन्‍होंने कहा कि ए ए आई (एयरपोट अथार्टी आफ इंडिया ) को तो यह काफी संख्‍या में पेड लगाने हैं। उन्‍होंने बताया कि मानसून के कारण वाफंड्री का काम करवा रहे कांर्टैक्‍टर की लेबर को दिककत होने से काम की गति कुछ प्रभावित जरूर हुई है, किन्‍तु अपने इंस्‍पैक्‍शन के दौरान उन्‍होंने काम मे तेजी लाने को कहा है।

सिविल सोसायटी के जनरल सैकेट्री अनिल शर्मा ने डायरैक्‍टर से अनुरोध किया कि दो महीने के बाद शुरू होने वाले टूरिजम सीजन को दृष्‍टिगत आगरा की एयरकनैक्‍टिविटी को बढवाने का प्रास किया जाये । जिससे लोगों को हवाई यात्रा कर आगरा आने और यहां से जाने का सुविधा जनक विकल्‍प उपलब्‍ध रहे। उन्‍होंने कहा कि भारत सरकार की रीजनल एयर कनैक्‍टविटी वाली नीति को दृष्‍टिगत इसके लिये वाकायदा एक प्रचार अभियान जरूरी है। क्‍यो कि अब तक आगरा को ताजमहल की मौजूदगी के बावजूद नजर अंदाज करने का ही दौर चलता रहा है।
इस पर सुश्री दास ने कहा कि उन्‍हें लगता है कि आने वाला समय आगरा की एयरकनैक्‍टिविटी में बढोत्‍तरी वाला रहेगा। उन्‍होंने बताया कि ‘ आगरा- जयपुर -आगरा’ 26 जुलाई से पुन: शुरू हो रही है। दिल्‍ली- आगरा के बीच भी प्रस्‍तावित फ्लाइट के टूरिज्‍म सीजन के शुरू होना अनुमानित है। उन्‍होंने कहा कि एयर र्टैविल से जुडे एजैंटो और एजैंसियों के द्वारा दिखायी जा रही दिलचस्‍पी तथा अन्‍य माध्‍यमों से मिलने वाली जानकारियों से जो सकारात्‍मक संकेत मिले हैं उन्‍हे दृष्‍टिगत एयर फोर्स से 80 यात्रियों वाले वायुयानों को टेक आफ लैंडिंग की औपचारिक अनुमति के लिये वह लिख चुकी हैं। सिविल सोसाइटी का मनना है-80 सीटर प्लेन कि स्पेशल फैसिलिटी के साथ परमिशन मिलने से आगरा में छोटे प्लेन पार्क करने कि फैसिलिटी का उपयोग भी किया जा सकता है. इस से टूरिज्म इंडस्ट्री के कॉर्पोरेट कंपनी भी आगरा में अपना बेस बना सकती हैं.

पूर्व में श्री अनिल शर्मा और राजीव सक्‍सेना ने धनौली और बल्‍हेरा गांवों में सिविल एन्‍कलेव के लिये वाऊंड्री वाल रने के काम का जायजा लिया। कार्य प्रगति को द्ष्‍टिगत अक्‍टूबर तक वाऊंड्री पूरी जाने का अनुमान है। जमीन में कई जगह बरसात में पानी के भरने से कार्यगति थोडी प्रभावित जरूर है किन्‍तु काम तेजी के साथ चल रहा है।
श्री शर्मा ने कहा कि उनकी बेहतरीन जानकारी के अनुसार सिविल एन्‍कलेव – एयरुोर्स वाऊंड्री वाल के बी के किसानों में से अधिकांश अपनी जमीन को बेच देना चाहते हैं। श्री शर्मा ने कहा कि इसके लिये अगर जनप्रतिनिधि प्रयास कर सके तो ‘ पं. दीन दयाल उपाध्‍याय एयरपोर्ट ‘ भविष्‍य का एक लाभकारी प्रतिष्‍ठान साबित हो जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »