यह EVM घोटाला नहीं, बैंकिंग घोटाला है

It's not an EVM scam, it's a banking scam
यह EVM घोटाला नहीं, बैंकिंग घोटाला है

दो EVM यानी इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों में बात चल रही थी। एक ने कहा, नेता जीतकर पब्लिक को धन्यवाद करता है पर हारकर ईवीएम मशीनों को गरियाता है। हारे को अब सिर्फ हरिनाम नहीं है, हारे को ईवीएम भी है। एक नेता बता रहे थे कि मेरे घर में ड्राइवर, पत्नी, बेटे समेत चार वोट हैं, मुझे एक वोट भी नहीं मिला।
ओ भाई, ऐसी बातें ढके-छिपे में कही जाती हैं कि घर वालों तक ने मुझे वोट ना दिया।
दरअसल, यह ईवीएम घोटाला नहीं बैंकिंग घोटाला है। हर नेता यह सोचकर मस्त बैठा था कि मेरे खाते में इतने वोट हैं। बाद में पता लगा कि जिन वोटों को वह अपना समझ रहा था या अपना समझ रही थी वह किसी और के खाते में बरामद हुए। मायावती जी को इन दिनों देखिए तो कुछ उस दुखी इनवेस्टर की तरह दिखाई पड़ती हैं जो माने बैठा था कि खाते में दस लाख हो गए होंगे, पर उसमें निकले सिर्फ दो हजार। सदमा तब सौ गुना हो जाता है, जब अपने खाते से गायब रकम विरोधी के पास बरामद हो और उसे दिखाकर वह चुनावी डांस कर रहा हो।
वोट बैंक घोटाले अभी रिजर्व बैंक की जांच के दायरे में नहीं आते, वरना इस वक्त रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर देश के सबसे बिजी अफसर होते। एक नेता ने बताया कि अलां पत्रकार, फलां पत्रकार तक ने बता दिया था कि हमारी सरकार बनेगी। बताते तो निर्मल बाबा भी हैं। प्रेमचंद की एक क्लासिक कहानी है- लॉटरी। इसमें पत्थर मारकर झक्कड़ बाबा लॉटरी-प्रदायक आशीर्वाद देते हैं। कई लोग पत्थर खाते हैं, फिर भी लॉटरी नहीं निकलती। ऐसे में कई झक्कड़ बाबा को पीटने निकलते हैं।
ऐसा ही सीन रहा तो पत्रकारिता के कई झक्कड़ बाबाओं के पिटने की नौबत आ जाएगी। यूपी में मायावतीजी को भरोसा ना हो रहा है, अखिलेशजी सन्न हैं, बस राहुलजी यूपी में सात सीटें पाकर एकदम शांत हैं, इसे संतोष की भावना मानें या पूर्व-विश्वास कि इतनी ही मिलनी थीं।
पुनश्च- गोवा में विश्वास मत हासिल करके मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर कनफ्यूज्ड हुए कि पहले थैंक्यू किसे बोलें- अमित शाह की ऑपरेशन-गोवा में दिखाई गई स्पीड को या गोवा प्रभारी कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह की ढीली, सुस्त चाल को।
-आलोक पुराणिक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *