इटली: 100 से ज़्यादा हत्याएं करने वाला ब्रुस्का पेरोल पर रिहा, लोग नाराज

इटली में सिसिली के माफ़िया डॉन जोवानी ब्रुस्का को जेल से रिहा कर दिया गया है. इसके जघन्य अपराधों की सूची में एक बच्चे को तेज़ाब में डुबोना भी शामिल है.
‘जनता का क़ातिल’ क़रार दिए गए ब्रुस्का ने 100 से ज़्यादा हत्याओं में अपनी भूमिका स्वीकार की है. इनमें माफ़ियाओं के ख़िलाफ़ कई मुक़दमे लड़ने वाले शीर्ष अभियोजक जोवानी फ़ैल्कन की हत्या भी शामिल है.
हालाँकि, बाद में ब्रुस्का मुख़बिर बन गया और फिर उसने कई साथी गुंडों को पकड़वाने में अभियोजकों की मदद की. 25 साल जेल में रहने के बाद ब्रुस्का की रिहाई ने पीड़ितों के परिजन को ख़फ़ा कर दिया है.
कौन हैं जोवानी ब्रुस्का?
64 साल का ब्रुस्का सिसिली के माफ़िया संगठन कोसा नोस्त्रा के अहम सदस्य था.
1992 में उसने एक गाड़ी को बम से उड़ा दिया था, जिसमें इटली के माफ़ियाओं के ख़िलाफ़ जाँच करने वाले अहम जाँचकर्ता जज जोवानी फ़ैल्कन बैठे थे. इसे देश की सबसे कुख्यात हत्याओं में दर्ज किया गया.
इस हमले में ब्रुस्का ने पलेरमो के पास उस सड़क के नीचे क़रीब आधा टन विस्फोटक लगाया था, जिससे फ़ैल्कन गुज़रने वाले थे. इस हमले में फ़ैल्कन की पत्नी और उनके तीन अंगरक्षक भी मारे गए थे.
इस हमले के दो महीने बाद फ़ैल्कन के एक सहकर्मी पाओलो बोरसेलीनो की भी हत्या कर दी गई. इस हमले ने पूरे इटली को हिला दिया. नतीजा ये हुआ कि फिर देश में नए कड़े माफ़िया-रोधी क़ानून बनाए गए.
ब्रुस्का ने 100 से ज़्यादा हत्याओं में अपनी भूमिका स्वीकार की थी.
इनमें सबसे वीभत्स मामला 11 साल के जुसेपे डी मैटियो की हत्या का था. जुसेपे उस माफ़िया का बेटा था, जिसने ब्रुस्का को धोखा दिया था.
इसके बदले में ब्रुस्का ने उसके बच्चे का अपहरण करके उसे ख़ूब प्रताड़ित किया. फिर उनका गला घोंटकर उसके शरीर को तेज़ाब में डालकर गला दिया. इस वजह से बच्चे के घरवाले उसकी लाश को दफ़न भी नहीं कर सके थे.
1996 में गिरफ़्तार होने के बाद ब्रुस्को अपनी सज़ा कम कराने के मक़सद से सरकारी गवाह बन गया था. उसने 1980 और 1990 के दशक में हुए तमाम माफ़िया हमलों के लिए ज़िम्मेदार अपराधियों को पकड़वाने में जाँचकर्ताओं की मदद की.
कैसी रही प्रतिक्रिया?
ब्रुस्का की रिहाई से पीड़ितों के परिजनों को बहुत दुख पहुँचा है और वो नाराज़ हैं.
फ़ैल्कन पर हमले में मारे गए एक अंगरक्षक की पत्नी टीना मोन्टीनारो ने रिपब्लिका अख़बार से बातचीत में कहा कि वो बहुत ग़ुस्से में हैं.
टीना ने कहा, “ये देश हमारे ख़िलाफ़ है. 29 साल बाद भी हमें उस हत्या की सच्चाई नहीं पता है और हमारे परिवार को बर्बाद करने वाला शख़्स जियोवानी ब्रुस्का आज़ाद है.”
फ़ैल्कन की बहन मारिया फ़ैल्कन ने कहा कि उन्हें इस ख़बर से बहुत दुख पहुँचा है लेकिन वो कहती हैं कि क़ानून ब्रुस्का को जेल से निकलने का अधिकार देता है.
इटली के कई राजनेताओं ने भी ब्रुस्का की रिहाई की आलोचना की है.
दक्षिणपंथी लीग पार्टी के नेता मैटिओ साल्वीनी ने कहा, “25 साल जेल में गुज़ारने के बाद माफ़िया डॉन जोवानी ब्रुस्का आज़ाद है. ये इटलीवासियों के लिए न्याय नहीं है.”
सेंटर-लेफ़्ट डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता एनरिको लेटा ने रेडियो स्टेशन Rtl 102.5 से बातचीत में कहा, “ये पेट पर उस मुक्के की तरह है, जिसके बाद आप साँस भी नहीं ले पाते हैं.”
-BBC

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *