ट्रंप को बाल बढ़ाने वाली दवा लिखना महंगा पड़ा डॉक्‍टर को

न्यू यॉर्क। अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के पूर्व डॉक्टर ने एक सनसनीखेज खुलासा किया है। डॉक्टर ने बताया है कि ट्रंप के बॉडीगार्ड्स ने उनके यहां रेड मारी थी। डॉक्टर के मुताबिक पिछले साल पड़ी इस रेड के बाद वे लोग राष्ट्रपति के मेडिकल रिकॉर्ड्स जब्त कर अपने साथ ले गए। 
ट्रंप के पूर्व डॉक्टर हैरल्ड बॉर्नस्टीन के मुताबिक यह रेड 3 फरवरी 2017 को डाली गई थी। इससे 2 दिन पहले ही न्यू यॉर्क टाइम्स ने डॉक्टर के हवाले से रिपोर्ट दी थी कि उसने ट्रंप को बाल बढ़ाने वाली दवा लिखी थी। 
बॉर्नस्टीन ने एनबीसी को बताया कि ट्रंप के बॉडीगार्ड्स 25 से 30 मिनट तक रहे। इस रेड ने काफी हंगामा मचाया। डॉक्टर के मुताबिक घटना से उन्हें काफी दुख और डर महसूस हुआ। डॉक्टर ने अपने ऑफिस आए 3 लोगों में से दो की पहचान भी बताई है। उनके मुताबिक एक शख्स ट्रंप का काफी पुराना पर्सनल बॉडीगार्ड केथ शिलर थे जो सितंबर 2017 तक वाइट हाउस में ऑपरेशनल डायरेक्टर रहे। दूसरे ट्रंप परिवार के रियल एस्टेट फर्म के वकील एलन गार्टन थे। डॉक्टर तीसरे की पहचान नहीं कर पाए। 
बॉर्नस्टीन ने बताया कि रेड बाद वे ट्रंप के मेडिकल चार्ट्स, उनके और उनके छद्म नामों के लैब रिकॉर्ड्स को भी लेकर चले गए। हालांकि वाइट हाउस ने बॉर्नस्टीन के इन दावों को तवज्जो नहीं देते हुए इसे सामान्य प्रक्रिया बताया है। वाइट हाउस प्रवक्ता सारा सैंडर्स ने रिपोर्ट्स को बताया कि जो कुछ हुआ उसे रेड नहीं कहा जा सकता। उनके मुताबिक किसी भी राष्ट्रपति के संबंध यह सामान्य प्रक्रिया होती है। 
उनके मुताबिक किसी भी नए राष्ट्रपति के मेडिकल रिकॉर्ड्स वाइट हाउस मेडिकल यूनिट के पास पहुंचाने के लिए ऐसा किया जाता है। एनबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक मैनहट्टन के डॉक्टर ने दावा किया है कि मेडिकल रिकॉर्ड रिलीज करने के लिए उन्हें राष्ट्रपति द्वारा साइन किया गया ऑथराइजिंग फॉर्म (HIPAA रिलीज) नहीं दिया गया। 
उनके मुताबिक यह पेशंट प्राइवेसी लॉ का उल्लंघन है। रिपोर्ट के मुताबिक 70 साल के बॉर्नस्टीन 35 सालों से अधिक समय तक ट्रंप के डॉक्टर रहे। टाइम्स में ट्रंप के बाल बढ़ाने से संबंधित दवा लेने की खबर सामने आने के बाद उन्हें हटा दिया गया था। 
-एजेंसी 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »