इजरायली खुफिया एजेंसी Mossad ने ईरान के एटमी प्रोग्राम के दस्तावेज चुराए

तेल अवीव। इजरायली खुफिया एजेंसी Mossad ने ईरान के एटमी प्रोग्राम से जुड़े करीब 5 क्विंटल दस्तावेज चुरा लिए थे। अमेरिकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक Mossad ने इस ऑपरेशन को 31 जनवरी की रात सिर्फ साढ़े छह घंटे में अंजाम दिया। Mossad के एजेंट तेहरान के वेयरहाउस में घुसे और सुबह 7 बजे दूसरी शिफ्ट में गार्ड्स के आने से पहले फाइलें और सीडी लेकर चले गए। इन्हीं दस्तावेज के आधार पर इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने ईरान पर परमाणु समझौते के उल्लंघन के आरोप लगाए थे।
ऑपरेशन में खुफिया एजेंट्स ने पहले वेयरहाउस के अलार्ट सिस्टम को बंद किया। फिर दो दरवाजे तोड़कर अंदर घुसे। परमाणु कार्यक्रम के दस्तावेज तक पहुंचने के लिए उन्हें तिजोरी भी काटनी पड़ी। इसके लिए वे अपने साथ ब्लोटॉर्च लेकर गए थे। माना जा रहा है कि एटमी प्रोग्राम से जुड़े किसी शख्स ने इजरायल की मदद की। इस शख्स ने मोसाद को बताया कि कौन सी तिजोरी काटनी है। वेयरहाउस में सैकड़ों तिजोरियां थीं, जिन्हें छुआ भी नहीं गया। इन सीक्रेट दस्तावेज में 50 हजार पन्नों की फाइलें और 163 सीडी हैं।
इजरायल ने परमाणु समझौता उल्लंघन के सबूत पेश किए :2015 में ईरान के परमाणु समझौते पर हस्ताक्षर करने के बाद से ही इजरायल तेहरान में संदिग्ध न्यूक्लियर साइट पर नजर रख रहा था। इजरायल का दावा था कि ईरान ने देशभर से एटमी प्रोग्राम के दस्तावेज एक वेयरहाउस में जमा किए हैं। किसी को शक ना हो इसलिए यहां हर वक्त पहरा नहीं होता है। प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने मोसाद से मिले दस्तावेज के आधार पर मई में मीडिया के सामने प्रेजेंटेशन दिया था। उन्होंने कहा था- अब साबित हो चुका है कि ईरान ने परमाणु समझौते पर हस्ताक्षर के बाद से ही अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की आंखों में धूल झोंकी। वह हथियार बनाने की कोशिश कर रहा है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »