इस्‍लामिक विद्वान मौलाना सलमान नदवी ने कहा, मस्‍जिद कहीं और भी बन सकती है

लखनऊ। आल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड से निष्कासित व इस्‍लामिक विद्वान मौलाना सलमान नदवी ने अयोध्या में विवादित स्थल से बाबरी मस्जिद को स्थानांतरित किये जाने की वकालत की है। उन्होंने कहा है कि इस्लाम के इतिहास में मस्जिद को स्थानांतरित करने की तमाम दलीलें मौजूद हैं। बाबरी मस्जिद की जमीन पर लम्बे समय से नमाज नहीं पढ़ी जा रही है लिहाजा वहां से मस्जिद स्थानांतरित की जा सकती है। उन्होंने कहा कि पर्सनल ला बोर्ड अपने कामकाज के तरीके की वजह से किसी मसले को हल करने में कामयाब नहीं हो सका।
अयोध्या पर सरकार चौकन्नी, सुरक्षा बंदोबस्त तगड़े
अयोध्या में राममंदिर निर्माण के मुद्दे पर सियासी पारा चढ़ने लगा है। साथ ही अयोध्या की धर्मसभा को लेकर यूपी सरकार के सामने शांति व्यवस्था के लिहाज से चुनौती भी बढ़ गई है।
प्रदेश सरकार के सामने अयोध्या में भीड़ को नियंत्रित करने व विवादित स्थल के नजदीक न जाने देने का भारी चुनौती है। विहिप का दावा है कि लाखों लोग इस आयोजन में शिरकत करेंगे। इस बीच शिवसेना की सक्रियता भी बढ़ रही है। ऐसे में यूपी सरकार भी खासी सावधानी बरत रही है। सूत्र बताते हैं कि शिवसेना की सभा में उत्तेजकबयानी से इससे माहौल बिगड़ने का खतरा था इसलिए सरकार नहीं चाहती कि वह सभा जैसा कोई आयोजन करे।
शिवनेरी किले की मिट्टी ला रहे हैं ठाकरे
इस बीच शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे पुणे के शिवनेरी किले की मिट्टी एक कलश में भर कर शनिवार को अयोध्या पहुंचेगे। यह मिट्टी राम जन्मभूमि के महंत को दी जाएगी। पुणे के जुन्नार तहसील में स्थित यह किला मराठा राज के छत्रपति शिवाजी महाराज की जन्मस्थली है। श्री ठाकरे दो दिन के दौरे पर शनिवार को अयोध्या पहुंचेगे। वह लक्ष्मण किला में आयोजित संतों के सम्मान समारोह में हिस्सा लेंगे। उसी रोज शाम को सरयू आरती में शामिल होंगे। अगले रोज 25 को वह रामलला के दर्शन करेंगे। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे का कहना है कि जब तक राम मंदिर नहीं बनेगा तब तक सरकार भी नहीं बनेगी। उन्होंने हर हिंदू की यही पुकार पहले मंदिर फिर सरकार, का नारा भी दिया है।
ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों को पढ़ाया जाएगा संयम का पाठ
अयोध्या में 25 नवंबर को होने वाली विश्व हिन्दू परिषद की धर्मसभा सकुशल सम्पन्न कराने के लिए पुलिस को संयम का पाठ पढ़ाया जाएगा। ड्यूटी पर तैनात किए जाने वाले पुलिस व पीएसी के जवानों को इस बार खास हिदायत देने के निर्देश दिए गए हैं। इसमें स्पष्ट किया गया है कि आयोजन के दौरान किसी भी प्रकार की अव्यवस्था न होने दी जाए और न ही बल प्रयोग जैसे हालात बनने पाएं। जिले के प्रशासन को पुलिस व पीएसी के जवानों की ड्यूटी लगाने से पहले उनकी ठीक से ब्रीफिंग करने को कहा गया है। ड्यूटी पर भेजे जाने वाले पुलिस अफसरों को भी इस बारे में विस्तृत दिशा-निर्देश दिए गए हैं।
यह आखिरी धर्मसभा : विहिप
विश्व हिन्दू परिषद के अवध प्रांत के संगठन मंत्री भोलेन्द्र ने कहा कि अयोध्या में भगवान श्रीराम का भव्य मंदिर बनाने के लिए 25 नवंबर को अंतिम धर्मसभा हो रही है। इसके बाद धर्मसभा नहीं होगी, मंदिर निर्माण होगा।
हिन्दू समाज से 25 नवंबर को अयोध्या पहुंचने की अपील करते हुए उन्होंने कहा कि यह धर्मसभा श्रीराम के विरोधियों के लिए अंतिम संदेश है। जनेऊ पहनकर मान सरोवर की यात्रा करने वालों और रामनामी दुपट्टा ओढ़कर राम मंदिर का विरोध करने वालों के लिए भी यह अंतिम संदेश है। भोलेन्द्र ने कहा कि जिस प्रकार भगवान राम ने सीता को वापस लाने के लिए अंतिम प्रयास के रूप में अंगद को दूत बनाकर भेजा था और महाभारत युद्ध को टालने के लिए पांडवों ने भगवान कृष्ण को भेजा था, उसी प्रकार आज पूरे देश में धर्मसभा हो रही है। इसके बाद धर्मसभा नहीं होगी, मंदिर निर्माण होगा। उन्होंने यह भी बताया कि शुक्रवार को अवध प्रांत में जन जागरण यात्रा निकलेगी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »