ट्विटर के जरिये फिल्म कारवां का प्रमोशन किया Irrfan Khan ने

मुंबई। लंदन में अपनी गंभीर बीमारी ‘न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर’ का इलाज करवा रहे अभिनेता Irrfan Khan ने जब दो महीने बाद एक ट्विट के जरिये अपनी फिल्म कारवां का प्रमोशन किया तो सभी चौंक गए थे और इस बात से ख़ुश भी कि इरफ़ान की तबियत संभवतः सुधार पर हैं।

इरफ़ान की हालत में थोड़ा सुधार हुआ है और हो सकता है कि वो जल्द ही भारत वापस लौट आयें। ये उनकी कुछ समय के लिए भारत यात्रा हो सकती है और बाद में वो वापस लंदन जा कर अपना इलाज पूरा करेंगे। हालांकि इरफ़ान के परिवार की तरफ़ से इस तरह की कोई जानकारी नहीं दी गई है लेकिन ख़बर है कि वो अपनी कुछ दिनों की इंडिया जर्नी में आने वाली फिल्म कारवां से जुड़ा कोई प्रमोशन भी करे दें। इरफ़ान ने इसी फिल्म के लिए दो महीने बाद ट्विट किया था। इरफ़ान की पिछली फिल्म ब्लैकमेल थी और जब वो फिल्म रिलीज़ हो रही थी तभी इरफ़ान को अपनी बीमारी का पता चला और वो प्रमोशन नहीं कर सके। फिल्म के निर्देशक आकर्ष खुराना ने कहा है कि वो इरफ़ान की वापसी का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे हैं। उनकी बीमारी से हम सब स्तब्ध रहे और उनकी जल्द से जल्द ठीक होने की लगातार कामना कर रहे हैं।

Irrfan Khan ने पिछले दिनों जो ट्विट किया था उसमें कहा था कि – शुरुआत के नयेपन का जो अनुभव होता है, उसे खरीदा नहीं जा सकता। दिलकेर और मिथिला को कारवां में जुड़ने का धन्यवाद। दो कारवां चल रहे हैं। एक मैं और दूसरी फिल्म। ज़ाहिर है इरफ़ान ने अपने इस ट्विट से फिल्म से जुड़े लोगों को बधाई, शुरुआती प्रमोशन में शामिल न होने का दर्द और अपनी लाइफ़ की एक झलक दिखला दी है। दस अगस्त को रिलीज़ हो रही आकर्ष खुराना की फिल्म कारवां एक कॉमेडी फिल्म है, जिसमें अलग अलग किरदार अपनी अपनी जर्नी के साथ एक जगह आ कर मिलते हैं। इस फिल्म में इरफ़ान के साथ पहली बार बॉलीवुड में कदम रख रहे साऊथ स्टार ममूटी के बेटे दिलकेर सलमान, कृति खरबंदा और मिथिला पारकर भी काम कर रहे हैं। इरफ़ान 20 मार्च के आसपास लंदन इलाज के लिए रवाना हुए थे। उन्होंने पांच मार्च को एक ट्विट कर सबको चौका दिया था कि उन्हें एक तरह की दुर्लभ बीमारी है और जांच के बाद वो सबको बतायेंगे। इरफ़ान ने आख़िरी ट्विट 16 मार्च को किया था जिसमें उन्होंने अपनी बीमारी का हवाला दिया। ये उनका अब तक आख़िरी ट्विट था, जिसे उन्होंने पिन ट्विट भी बनाया है।

Irrfan Khan ने पोस्ट लिख कर बताया था कि “मुझे पता चला है कि मुझे ‘न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर’ (Neuroendocrine Tumour) है और इस बात पर विश्वास करना सचमुच मुश्किल है लेकिन मेरे आसपास के लोगों के प्यार और प्रार्थनाओं और मेरे भीतर के विश्वास ने उम्मीदों को जगाये रखा है। मैं अब अपना ईलाज कराने के लिए विदेश जा रहा हूं और मेरी सबसे अपील है कि वो मेरे लिए अपनी विशेज भेजते रहें। जैसा कि हर जगह इस तरह की अफवाहें फैली हैं कि न्यूरो का संबंध हमेशा ब्रेन (मस्तिष्क) से ही होता है और गूगल ही इसके सर्च का आसान रास्ता है। जिन लोगों ने मेरी बीमारी के बारे में मेरे बयान के आने का इंतज़ार किया, उनके लिए मैं ये कहे जा रहा हूं कि मैं आपको और भी बहुत सारी कहानियां सुनाने के लिए वापस आऊंगा”

-एजेंसी

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *