नित्यानंद की तलाश के लिए इंटरपोल का ब्लू कॉर्नर नोटिस जारी

नई दिल्‍ली। इंटरपोल ने रेप और यौन उत्पीड़न आरोपी स्वयंभू बाबा नित्यानंद की तलाश के लिए ब्लू कॉर्नर नोटिस जारी की है।
बता दें कि दिसंबर में गुजरात पुलिस ने दावा किया था कि वह देश से फरार हो गया है और उसकी तलाश के लिए विदेश मंत्रालय भी मदद कर रही है।
बुधवार को गुजरात पुलिस ने पुष्टि की कि नित्यानंद की तलाश में मदद के लिए इंटरपोल ने नोटिस जारी कर दिया है।
स्वयंभू बाबा नित्यानंद पर कर्नाटक में जहां रेप और किडनैपिंग का केस दर्ज है, वहीं गुजरात में उत्पीड़न को लेकर केस दर्ज हैं। गुजरात में उस पर आरोप है कि वह बच्चों को अगवा कर अपने अहमदाबाद स्थित आश्रम में बंधक बना लेता था और फिर अनुयायियों से चंदा जुटाने के काम में लगा देता था। पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज किया है। इसके साथ ही पुलिस ने दो महिला अनुयायियों साध्वी प्राण प्रियानंद और प्रियातत्व रिद्धि किरण को भी गिरफ्तार किया था। दोनों पर कम से कम चार बच्चों को कथित तौर पर अगवा करने और उन्हें एक फ्लैट में बंधक बनाकर रखने का आरोप है।
क्या है ब्लू कॉर्नर नोटिस
इंटरपोल अपने सदस्य देशों के अपराधियों के खिलाफ अलग-अलग नोटिस जारी करता है जैसे-रेड कॉर्नर, ब्लू , ब्लैक, पर्पल, ऑरेंज और यलो कॉर्नर नोटिस। ब्लू कॉर्नर नोटिस भगोड़े अपराधी की तलाश के लिए जारी किया जाता है। ऐसा फरार अपराधी जिसकी पहचान हो चुकी हो या न हुई हो या फिर आपराधिक कानून का उल्लंघन करता पाया गया हो।
जब भक्त ने लगाया गंभीर आरोप
उसके एक पूर्व भक्त ने आरोप लगाया कि उसके चार बच्चों को नित्यानंद के आश्रम ने जबरदस्ती कर्नाटक स्थित आश्रम में कैद कर रखा है। हालांकि, दो बेटियों ने फेसबुक पर एक वीडियो भी जारी कर कहा था कि वह अपनी मर्जी से आश्रम में रह रही हैं और पिता उन्हें आश्रम से हटाना चाहते हैं।
खुद का आईलैंड!
आलीशान जीवनशैली के लिए मशहूर नित्‍यानंद के बारे में यह दावा भी किया जा रहा है कि उसने साउथ अमेरिका के एक देश इक्वाडोर से एक आइलैंड खरीदा है और उसे अपना आजाद देश घोषित कर दिया है। रेप आरोपी नित्यानंद ने इस आजाद देश का नाम ‘कैलासा’ रखा है। उसकी वेबसाइट में बताया गया है कि कैलासा एक गैर-राजनीतिक देश है और मानवता उसका मकसद है। यह देश हिंदू धर्म की सभ्यता और संस्कृति के अनुसार चलेगा, जोकि कई देशों से विलुप्त हो रही है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »