दिल्ली में Aap के साथ गठबंधन को लेकर कांग्रेस में आंतरिक संघर्ष

नई दिल्ली। दिल्ली में Aap (आम आदमी पार्टी) के साथ गठबंधन को लेकर कांग्रेस में आंतरिक संघर्ष की स्थिति पैदा हो गई है। पूर्व सीएम शीला दीक्षित के नेतृत्व वाला धड़ा Aap से गठबंधन के खिलाफ है जबकि अजय माकन गुट अब इसके समर्थन में है। दोनों ही खेमों ने अपना नजरिया बताते हुए राहुल गांधी को पत्र लिख दिया है। आने वाले कुछ दिनों में राहुल गांधी की ओर से इस पर फैसला लिया जा सकता है।
शीला दीक्षित के साथ आए तीनों कार्यकारी अध्यक्ष
दिल्ली में कांग्रेस-Aap के गठबंधन की खबरों के बीच दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष शीला और उनके सहयोगी तीन वर्किंग प्रेसीडेंट्स (हारून यूसुफ, देवेंद्र यादव और राजेश लिलोठिया) ने फिर एक बार गठबंधन को गलत बताया है। उन्होंने पत्र में कहा है कि इससे पार्टी को भविष्य में नुकसान होगा। सभी ने पार्टी को दिल्ली में अकेले लड़ने की सलाह दी है। यह पत्र 14 मार्च को भेजा गया था।
गठबंधन के समर्थन में भी पहुंचा पत्र
शीला के इंकार के बावजूद दिल्ली कांग्रेस के प्रभारी पीसी चाको आप से गठबंधन के समर्थन में हैं। वहीं कांग्रेस के कुछ पूर्व अध्यक्षों ने मिलकर राहुल को इस संबंध में पत्र भी लिख दिया है। सूत्रों के अनुसार पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन, ताजदार बाबर, अरविंदर सिंह लवली और सुभाष चोपड़ा ने राहुल को गठबंधन के लिए हामी भरने की सलाह दी थी।
दूसरा पत्र राहुल के पास पहुंचने के बाद पीसी चाको ने कहा, ‘मुझे जानकारी मिली है कि पार्टी के सीनियर नेता समझते हैं कि इस वक्त बीजेपी को हराना मुख्य जिम्मेदारी है। ज्यादातर नेताओं को लगता है कि इसके लिए Aap से गठबंधन होना चाहिए।’ पीसी चाको ने यह भी कहा कि राहुल गांधी अगले कुछ दिनों में इसपर फैसला लेंगे। चाको बोले, ‘पार्टी की वर्किंग कमेटी भी फैसला ले चुकी है कि जो पार्टी बीजेपी के खिलाफ हैं उनके साथ गठबंधन होना चाहि। मुझे लगता है कि दिल्ली के नेता भी इसका पालन करेंगे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »