INX मीडिया केस में इंद्राणी मुखर्जी को गवाह बनने की इजाजत

मुंबई। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की एक विशेष अदालत ने गुरुवार को पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम से संबंधित INX मीडिया केस में इंद्राणी मुखर्जी को गवाह बनने की इजाजत दे दी है।
बता दें कि फिलहाल इंद्राणी मुंबई की भायखला जेल में अपनी बेटी शीना बोरा की हत्या के केस में बंद है। इंद्राणी ने कोर्ट में गवाह बनने की याचिका दाखिल की थी।
सीबीआई ने पहले कोर्ट में कहा था कि उसके पास बातचीत के रूप में ऐसे सबूत हैं जिनके बारे में सिर्फ इंद्राणी को पता है इसलिए इससे केस को मजबूत मिलेगी। पिछले साल इंद्राणी ने कोर्ट में INX मीडिया से जुड़ा हुआ एक गोपनीय बयान दिया था। इसके बाद उसने केस में गवाह बनने के लिए याचिका दायर की थी।
पी चिदंबरम के कार्यकाल के दौरान अनियमितता का आरोप
बता दें कि 15 मई 2017 को केंद्रीय जांच ब्यूरो ने फॉरेन इन्वेस्टमेंट प्रमोशन बोर्ड (FIPB) की अनियमितता के आरोप में एफआईआर दर्ज की थी। आरोप था कि FIPB ने INX मीडिया को 2007 में वित्त मंत्री के तौर पर पी चिदंबरम के कार्यकाल के दौरान विदेश से 305 करोड़ रुपये फंड देने के लिए क्लियरेंस देने में अनियमितता की थी। एफआईआर के आधार पर प्रवर्तन निदेशालय ने प्रिवेन्शन ऑफ मनी लॉन्डरिंग एक्ट के तहत केस दर्ज किया था।
ईडी कर रही है जांच
3 फरवरी को केंद्रीय कानून मंत्रालय ने केंद्रीय जांच एजेंसी को चिदंबर के खिलाफ जांच की इजाजत दे दी थी। ईडी ने कार्ति की 54 करोड़ रुपये की संपत्ति और एक कंपनी भी अटैच कर दी थी। ईडी यह जांच कर रही है कि कैसे FIPB ने ग्रुप को 2007 में क्लियरेंस दे दिया। ईडी का दावा है कि अभी तक की जांच में यह बात सामने आई है कि INX मीडिया के निदेश पीटर मुखर्जी और इंद्राणी मुखर्जी ने सीनियर कांग्रेस नेता से मुलाकात की थी ताकि उनके आवेदन में देरी न हो।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *