188 लोगों को ले जा रहा Indonesia का यात्री विमान समुद्र में गिरा

Indonesia की लायन एयरलाइंस की फ़्लाइट बोइंग 737 जकार्ता से उड़ान भरने के ठीक बाद समुद्र में क्रैश कर गई. फ़्लाइट जेटी-610 Indonesia की राजधानी जकार्ता से पंगकल जा रही थी.
उड़ान भरने के कुछ मिनट बाद ही इसका संपर्क टूट गया था. यह फ़्लाइट समुद्र पार कर रही थी. इसमें 188 लोग सवार थे. राष्ट्रीय सर्च और राहत बचाव एजेंसी के प्रवक्ता युसूफ़ लतीफ़ ने कहा इस फ़्लाइट क्रैश की पुष्टि की है.
Indonesia की आपदा एजेंसी के प्रमुख सुतोपो पू्र्वो नुगरोहो ने हादसे की तस्वीरें पोस्ट की हैं.
एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में अधिकारियों ने कहा कि इसमें 188 वयस्क, एक नवजात और दो बच्चे सवार थे. इसके अलावा दो पायलट और चालक दल के पांच लोग हैं.
सुतोपो ने एक वीडियो भी शेयर किया है. सुतोपो ने कहा है कि यह वीडियो कारावांग का है. कारावांग जकार्ता के पूरब में है. यह फ़्लाइट बोइंग 737 मैक्स 8 है. 2016 से इस मॉडल का इस्तेमाल हो रहा है. फ़्लाइट ट्रैकिंग वेबसाइट फ्लाइटट्रेडर24 का कहना है कि यह विमान लायन एयर के पास इसी साल अगस्त में आया था.
एविएशन कंस्लटेंट गेरी सोएजाटमैन ने बीबीसी से कहा है कि मैक्स 8 में कई तरह की समस्याएं थीं.
विमान जेटी 610 ने जर्काता से स्थानीय समय सुबह 6:20 में उड़ान भरी थी. इसे पंगकाल पिनांग में देपाती आमिर एयरपोर्ट पर आना था, लेकिन उड़ान भरने के 13 मिनट बाद ही संपर्क टूट गया. पायलट ने शुरू में जकार्ता के सुकर्णो-हट्टा एयरपोर्ट पर वापस आने को कहा था.
राहत-बचाव एजेंसी के प्रवक्ता युसूफ़ लातिफ़ ने कहा है, ”प्लेन समंदर में 30 से 40 मीटर गहरे पानी में गिरा. हमें अब भी प्लेन नहीं मिला है.”

दिल्ली के भव्य सुनेजा उड़ा रहे थे प्लेन
इंडोनेशिया के लॉयन एयर बोइंग 737 विमान को दिल्ली के मयूर विहार के 31 वर्षीय कैप्टन भव्य सुनेजा उड़ा रहे थे।
भव्य सुनेजा ऐल्कॉन पब्लिक स्कूल से पढ़े थे और 2009 में ही उन्होंने पायलट का लाइसेंस हासिल किया था। इसके बाद वह अमिरात में ट्रेनी रहे। उन्होंने 7 साल पहले साल 2011 में लॉयन एयर को जॉइन किया था।
भव्य के बारे में बताते हुए एक एयरलाइन कंपनी के सीनियर अधिकारी ने कहा, ‘हमारे बीच जुलाई के महीने में बात हुई थी। भव्य बहुत मीठा बोलते थे, प्यारे इंसान थे। उनके पास बोइंग-737 उड़ाने का अच्छा अनुभव था और इतने सालों में कोई हादसा नहीं हुआ था। उनके अच्छे रिकॉर्ड को देखते हुए हम उन्हें अपनी टीम में लाने को लेकर बहुत उत्साहित थे। उनकी बस एक शर्त थी कि उन्हें दिल्ली में पोस्टिंग दी जाए क्योंकि वह दिल्ली के रहने वाले थे।’ अधिकारी ने आगे बताया, ‘ज्यादातर पायलट उत्तर भारत से हैं और दिल्ली पोस्टिंग चाहते हैं। ऐसे में हमने कहा था कि एक साल हमारे साथ काम करने के बाद उन्हें दिल्ली पोस्टिंग देने पर विचार किया जाएगा। वह इंडियन एटीपीएल (कमांडर लाइसेंस) के लिए हमसे मदद चाहते थे। हाल में लॉयन एयर के कई पाइलटों ने हमारे यहां जॉइन किया।’
भव्य को 6000 घंटों का फ्लाइट अनुभव था और को-पायलट को 5000 का। यह विमान अपनी उड़ान के 11 मिनट बाद ही क्रैश हो गया। बड़ी बात यह कि यह बिल्कुल नया विमान था और दो महीने पहले ही इसे शुरू किया गया था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *