पीएम मोदी के काफिले की सुरक्षा के लिए तैनात किए जाएंगे स्‍वदेशी एंटी-ड्रोन सिस्टम

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कड़े और बड़ै फैसले लेने के कारण कट्टरपंथियों, आतंकी संगठनों और दुश्मन देशों के निशाने पर रहते हैं। इस कारण उनकी सुरक्षा से संबंधित चुनौतियां लगातार बढ़ रही हैं। इससे निपटने के लिए उनकी सुरक्षा और लगातार चुस्त-दुरुस्त किया जा रहा है। इसी क्रम में अब प्रधानमंत्री आवास के अलावा कारों के काफिलों को भी एंटी-ड्रोन सिस्टम से सुसज्जित किया जाना है।
उधर, रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने सुरक्षा बलों के लिए तैयार किए जाने वाले एंटी-ड्रोन सिस्टम का उत्पादन करने के लिए भारत इलेक्ट्रॉनिक्स से डील कर रखी है।
चीनी ड्रोन का इस्तेमाल कर रहे पाकिस्तानी आतंकी संगठन
बताया जाता है कि प्रधानमंत्री के सुरक्षा दस्ते में ड्रोन को मार गिराने वाले ऐसे सिस्टम को शामिल किया जाएगा जिसे यात्रा के दौरान भी पीएम की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके। जानकारी के मुताबिक पीएम की सुरक्षा में ऐंटी-ड्रोन सिस्टम रखना अनिवार्य कर दिया गया है क्योंकि इस साल की शुरुआत से ही उन पर ड्रोन अटैक का खतरा बढ़ गया है।
दरअसल, पाकिस्तानी आतंकी संगठनों ने हमलों के साथ-साथ मादक पदार्थों की खेप भारत की सीमा में भेजने के लिए चीन निर्मित कॉमर्शियल ड्रोन का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। ऐसे में डीआरडीओ दो तरह के एंटी-ड्रोन बनाने में जुट गया है। इसका मकसद ड्रोन को निष्क्रिय करना है या फिर उसे मार गिराना।
दो तरह के एंटी-ड्रोन सिस्टम देश में तैयार
जानकारी के मुताबिक माना जा रहा है कि डीआरडीओ चीफ सतीश रेड्डी जल्द ही सशस्त्र बलों को
देशी एंटी-ड्रोन सिस्टम की जानकारी चिट्ठी के जरिए देंगे। इस साल गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस समारोह के आयोजन स्थलों पर एंटी-ड्रोन सिस्टम लगाए गए थे। ये एंटी-ड्रोन सिस्टम रेडार कपैबिलिटी से युक्त हैं जो दो से तीन किलोमीटर दूर से ही दुश्मन ड्रोन को निष्क्रिय कर सकते हैं। दूसरे तरह के एंटी-ड्रोन सिस्टम की क्षमता है कि वो दो-तीन किलोमीटर की दूरी से ही ड्रोन को लेजर बीम के जरिए मार गिराए।
10 किलो तक वजन ढो सकते हैं चीनी ड्रोन
पिछले वर्ष 2019 से ही पाकिस्तानी आतंकी संगठनों ने अंतर्राष्ट्रीय सीमा के पार भारतीय सीमा में लगातार ड्रोन भेजकर हथियार और मादक पदार्थ भेजे ताकि उग्रवाद को दोबारा हवा दी जा सके। इसी तरह का मोडस ऑपरैंडी जम्मू-कश्मीर में नियंत्रम रेखा (LoC) पर देखा जा रहा है। मालूम हो कि चीन निर्मित कॉमर्शियल ड्रोन 10 किलो तक हथियार, गोला-बारूद और मादक पदार्थ वहन कर सकते हैं।
LoC पर दम दिखा रहे हैं देशी एंटी-ड्रोन सिस्टम
अच्छी बात यह है कि एक तरफ डीआरडीओ एंटी-ड्रोन सिस्टम डिवेलप करने में जुटा है तो दूसरी तरफ देश की प्राइवेट कंपनियां भी सिक्यॉरिटी एजेंसियों के साथ मिलकर इस काम में जुटी हैं। देश में निर्मित एंटी-ड्रोन सिस्टम को एलओसी पर तैनात भी किया जा चुका है और ये सिस्टम हवाई खतरों से निपटने में सफल भी रहे हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *