विदेशियों को काफी आकर्षित करता है India का खाना

India की सांस्कृतिक विविधता के साथ ही ऐतिहासिक इमारतें और यहां का खाना विदेशियों को आकर्षित करता है। भारतीय खाना कई मायनों में उनके लिए अद्भुत होता है क्योंकि ज्यादातर देशों में ये फूड हैबिट्स नहीं हैं, जो इंडिया में हैं। अगर पिज्जा, बर्गर और फ्राइज को छोड़ दें तो विदेशी खाने में ज्यादार फूड ऐसा होता है जिसे स्पून या फॉर्क की मदद खाया जाता है जबकि हम चपाती या पराठा को सब्जी की ग्रेवी या सॉफ्ट दाल में भिगोकर खाते हैं। इससे हमें अलग स्तर की संतुष्टि होती है। पिछले दिनों खाना खाने के भारतीय स्टाइल पर एक रिसर्च भी हुई, इसमें सामने आया कि हाथ से खाना खाने पर व्यक्ति को अधिक तृप्ति होती है।
सेहत के लिए मसाले
विदेशों में ज्यादातर खाना पकाया जाता है और फिर उसमें सिर्फ नमक और काली मिर्च पाउडर ऐड कर दिया जाता है। जबकि भारतीय खाने का तड़का ही हल्दी, लाल मिर्च और कई तरह के मसालों के बिना पूरा नहीं होता है। यही स्पाइसी टेस्ट विदेशियों को नए जायके से परिचित कराता है।
वेजिटेरियन फूड ऑप्शन
भारतीय उन खुशकिस्मत लोगों में शामिल हैं, जिनके पास वेज फूड में बहुत सारे ऑप्शंस हैं। दुनिया के किसी देश में वेज खाने में इतनी वेरायटी और फ्लेवर नहीं देखने को मिलते हैं। जैसे-जैसे लोगों में प्रकृति और जानवरों के प्रति प्यार बढ़ रहा है, वे वेजिटेरियन हो रहे हैं और भारतीय भोजन की तरफ आकर्षित भी। हर भारतीय घर में दोपहर और रात के खाने में कम से कम दो सब्जी होती है। कभी एक सब्जी और एक दाल होती है। इसके साथ चपाती, पराठा या पुलाव। दही और कुछ मीठा। इतना सब एक साथ विदेशियों को हैरान करता है।
India में ड्रिक्स हैं लेकिन नशा नहीं
हमारे दैनिक जीवन का हिस्सा लस्सी, छाछ, बटरमिल्क, नींबू पानी, पुदीना छाछ, गुलाब शर्बत, ब्राह्मी शर्बत और शिकंजी जैसी ड्रिक्स हैं। ये सेहतमंद है और स्वादिष्ट भी। इनका स्वाद और नॉन ऐल्कोहॉलिक होना विदेशी सैलानियों को आकर्षित करता है।
रोटी में इतनी वेरायटी
ज्यादातर देशों में खाने के नाम पर ब्रेड और बन यानी कि मैदा से बने प्रोडक्ट्स मिलते हैं। कहीं मल्टी ग्रेन और दूसरे आटे भी मिलते हैं लेकिन रोटी में भारत जितनी वेरायटी किसी के पास नहीं। आइए गिनती शुरू करते हैं, घी लगी तवा रोटी, मक्का की रोटी, पूरी, बटर लगा नॉन, बटर लगा लच्छा पराठा, प्लेन पराठा, तरह-तरह के स्टफ्ड पराठे। इतने ऑप्शन सुनकर ही कोई बाहरी कंफ्यूज हो सकता है।
हमारे यहां के शानदार अचार
आम से लेकर कटहल तक, किस चीज का अचार हमारे यहां नहीं बनता है। सभी अचार बहुत टेस्टी और सेहत के लिए अच्छे होते हैं। बस, जरूरत होती है लिमिट में खाने की। लेकिन ये अचार और इनके टेस्ट विदेश से आए मेहमानों के लिए किसी अजूबे की तरह होते हैं, जो उन्हें लुभाते हैं और हैरान भी करते हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »