हवाई सफर में सेफ्टी और सिक्यॉरिटी के लिए भारत की पहली नो-फ्लाई लिस्ट जारी

नई दिल्ली। हवाई सफर करने वाले पैसेंजर्स की सेफ्टी और सिक्यॉरिटी को ध्यान में रखते हुए केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने देश की पहली नो-फ्लाई लिस्ट जारी कर दी है। शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री अशोक गजपति राजू ने लिस्ट जारी करते हुए बताया कि फ्लाइट में गलत व्यवहार करने वाले पर कानूनी कार्यवाही के अलावा यह ऐक्शन लिया जाएगा। नो-फ्लाई लिस्ट को तीन कैटिगरीज में बांटा गया है जिसमें विमान में गलत व्यवहार करने वालों पर आजीवन बैन लगाया जा सकता है।
केंद्रीय नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने इस मौके पर कहा कि इस लिस्ट को लाने का कारण पैसेंजर्स की सुरक्षा है। नो-फ्लाई लिस्ट में तीन कैटिगरीज हैं- पहला, मौखिक रूप से उपद्रवी या बुरा व्यवहार करने वाले को 3 महीने के लिए नो-फ्लाई लिस्ट में डाला जाएगा। दूसरा, फिजिकली बैड बिहेवियर करने वाले को 6 महीने तक इस लिस्ट में रखा जाएगा और तीसरा, जान की धमकी देने संबंधी गलत आचरण करने वालों को कम-से कम दो साल के लिए और अधिकतम आजीवन काल के लिए हवाई सफर से बैन किया जा सकता है। बैन के खिलाफ अपील करने के लिए कमेटी होगी और फिर अदालत में भी चुनौती दी जा सकेगी।
इस साल की शुरुआत में शिवसेना सांसद रविन्द्र गायकवाड़ ने एयर इंडिया स्टाफ के साथ बुरा व्यवहार किया था जिसके बाद सभी घरेलू एयरलाइंस ने गायकवाड़ पर बैन लगा दिया था। बाद में सांसद के माफी मांगने के बाद एयरलाइंस ने बैन हटाया था। इस मामले के बाद नो-फ्लाई लिस्ट लाने पर चर्चा शुरू हुई थी। केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने कहा कि सुरक्षा संबंधी नो-फ्लाई लिस्ट लाने वाला भारत पहला देश होगा।
-एजेंसी