दलाई लामा की अरुणाचल यात्रा पर भारत का चीन को दो टूक जवाब, नहीं रोकी जा सकती यात्रा

India's answer to China on the Dalai Lama's Arunachal visit, Can not stop visit
दलाई लामा की अरुणाचल यात्रा पर भारत का चीन को दो टूक जवाब, नहीं रोकी जा सकती यात्रा

नई दिल्ली। दलाई लामा की अरुणाचल प्रदेश की यात्रा को लेकर चीन द्वारा जताई जा रही आपत्ति पर भारत ने अपना रुख साफ कर दिया है। भारत की तरफ से कहा गया है कि देश के किसी भी राज्य में उनकी यात्रा पर रोक लगाने की कोई वजह नहीं है। कुछ समय पूर्व रक्षामंत्री ने भी कहा था कि राजनीतिक समीकरणों के कारण दलाई लामा की यात्रा को रोका नहीं जा सकता।
सूत्रों के मुताबिक मिनिस्ट्री ऑफ एक्सटर्नल अफेयर्स के प्रवक्ता गोपाल बागले की तरह से इस बारे में कहा गया है कि वह एक धार्मिक गुरु हैं और उन्हें मामने वाले लोग भारत में भी बड़ी संख्या में रहते हैं। ऐसे में सरकार के पास उनकी यात्रा को रोकने की कोई वजह नहीं है। तिलमिलाए चीन के चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने कहा, ‘चीन इस बात को लेकर चिंतित है कि भारत ने दलाई लामा को अरुणाचल प्रदेश की यात्रा की अनुमति दी है। भारत के इस फैसले से द्विपक्षीय संबंध और विवादित सीमावर्ती इलाके में शांति को ‘गंभीर नुकसान’ पहुंचा सकता है।’
हाल ही चीन की तरफ से ब्रिक्स के सदस्य देशों की संख्या बढ़ाने को लेकर संकेत दिए हैं। चीन यह कदम इस साल होने वाली ब्रिक्स देशों की समिट के दौरान उठा सकता है। इस संबंध में भारत की तरफ से कहा गया है कि उसे चीन के सुझाव का इंतजार है। चीन की राजधानी पेंइचिंग में बोलते हुए चीन की रक्षामंत्री वांग यी ने बुधवार को कहा कि ग्रुप ‘साउथ-साउथ’ सहयोग बढ़ाने के लिए मौजूदा ब्रिक्स को ब्रिक्स-प्लस मॉडल से नया रूप देने का मॉडल तैयार कर रहा है ताकि क्षेत्र में सहयोग की भावना को और अधिक बल मिले। वांग यी बोले ‘हम दोस्तों का समूह बढ़ाना चाहते हैं ताकि ब्रिक्स साउथ-साउथ सहयोग के लिए अधिक प्रभावशाली प्लेटफॉर्म बन सके।’
इस बारे में बागले का कहना है कि भारत ब्रिक्स समिट की मेजबानी कर चुका है। इस बार यह सितंबर माह में चीन में होनी तय है। जिस तरह भारत में बिम्सटेक को महत्व दिया था, इसी तरह चीन भी दूसरे इवेंट कर सकता है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *