कोटला मैदान पर इतिहास रचने के इरादे से उतरेगी भारतीय टीम

नई दिल्ली। विजय रथ पर सवार विराट कोहली की अगुआई वाली भारतीय टीम शनिवार से यहां फिरोजशाह कोटला मैदान पर श्री लंका के खिलाफ शुरू हो रहे तीसरे और अंतिम क्रिकेट टेस्ट में लगातार 9वीं सीरीज जीतकर इतिहास रचने के इरादे से उतरेगी। नागपुर में दूसरे टेस्ट में पारी और 239 रन की जीत के साथ मौजूदा सीरीज में 1-0 से आगे चल रही भारतीय टीम ने कोहली की अगुआई में पिछली 8 सीरीजों में जीत दर्ज की है और अगर टीम शनिवार से शुरू हो रहे तीसरे टेस्ट को ड्रॉ भी करा लेती है तो लगातार 9 टेस्ट सीरीज जीतने के ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के रेकार्ड की बराबरी कर लेगी।
भारत ने पिछली सीरीज 2014-15 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उसी की सरजमीं पर गंवाई थी। टीम इंडिया को तब चार मैचों की सीरीज में 2-0 से शिकस्त का सामना करना पड़ा। इसके बाद से भारत ने 9 सीरीज खेलीं और टीम लगातार 8 सीरीज जीतकर इतिहास रचने की दहलीज पर खड़ी है। टीम इंडिया ने इस दौरान स्वदेश में 5, श्री लंका में 2 और वेस्ट इंडीज में एक सीरीज जीती।
दुनिया की नंबर एक टीम भारत के स्वदेश में दबदबे का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि 2012-13 में इंग्लैंड के खिलाफ 4 मैचों की सीरीज 2-1 से गंवाने के बाद से वह अपनी मेजबानी में लगातार 7 सीरीज जीत चुका है। टीम इंडिया ने इस दौरान 23 मैचों में से 19 में जीत दर्ज की जबकि एकमात्र मैच उसने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ गंवाया।
तेज होगी पिच?
साउथ अफ्रीका के कड़े दौरे से पहले यह भारत के लिए अंतिम टेस्ट मैच होगा और ऐसे में टीम प्रबंधन की इच्छा के अनुरूप कोटला में भी कोलकाता के ईडन गार्डन्स और नागपुर के वीसीए स्टेडियम की तरह अधिक घास वाली पिच पर मैच हो सकता है। ईडन गार्डन्स पर तेज गेंदबाजों ने कहर बरपाया था जबकि नागपुर में स्पिनर अधिक प्रभावी रहे थे। टीम प्रबंधन के सामने यह भी सवाल होगा कि इस मैच में कोलकाता की तरह 5 गेंदबाजों के साथ उतरा जाए या नागपुर की तरह चार गेंदबाजों के साथ उतरकर अतिरिक्त बल्लेबाज को खिलाया जाए।
रहाणे बैठेंगे बाहर?
अगर भारत 5 गेंदबाजों के साथ उतरने का फैसला करता है तो उप कप्तान अजिंक्य रहाणे को बाहर बैठाना पड़ सकता है। वह मौजूदा सीरीज की तीन पारियों में एक बार भी दोहरे अंक तक नहीं पहुंचे हैं। दूसरी तरफ रोहित शर्मा ने एक साल से भी अधिक समय बाद टीम में वापसी करते हुए नागपुर में शतक जड़ा था जिसके कारण उन्हें बाहर करना आसान फैसला नहीं होगा।
कोटला में भारत का शानदार रेकॉर्ड
भारत पिछले 30 साल से कोटला पर अजेय है। यहां पिछले 11 मैचों में से 10 में टीम इंडिया ने जीत दर्ज की है और एक मैच बराबरी पर छूटा। इस मैदान पर भारत ने कुल 33 टेस्ट खेले हैं और उनमें से उसे 13 में जीत और 6 में हार मिली जबकि 14 मैच ड्रॉ छूटे। भारत ने यहां पिछला मैच नवंबर 1987 में वेस्ट इंडीज के खिलाफ 5 विकेट से गंवाया था।
श्री लंका ने इस मैदान पर सिर्फ एक मैच खेला है और उसमें भारत के हाथों उसे दिसंबर 2005 में 188 रन से हार झेलनी पड़ी थी। कोलकाता में पहली पारी में तेज गेंदबाजी के अनुकूल हालात को छोड़कर भारतीय बल्लेबाजों ने अब तक प्रभावी प्रदर्शन किया है। कोहली ने 2 मैचों की तीन पारियों में एक दोहरे शतक सहित दो शतकों की मदद से 317 रन बनाए हैं और एक बार फिर सभी की नजरें उन पर टिकी होंगी। कोहली अगर 25 रन और बना लेते हैं तो टेस्ट क्रिकेट में 5000 रन पूरे करने वाले 11वें भारतीय बल्लेबाज बन जाएंगे। उन्होंने अब तक 62 मैचों में 51.82 के औसत से 4975 रन बनाए हैं।
-एजेंसी