जो पहले पलक झपकेगा वह हार जाएगा: शून्य से नीचे के तापमान में LAC पर मुस्तैदी से डटे हुए हैं भारतीय सैनिक

नई दिल्‍ली। भारत से सीमा विवाद के बीच चीन ने जहां अपने सैनिक और हथियारों का जमावड़ा किया है वहीं भारत के सैनिक भी बॉर्डर पर मुस्तैदी से डटे हुए हैं।
देपसांग घाटी में भारतीय सैनिकों का जमावड़ा लगा हुआ है। ये वही जगह है, जिस पर दुनिया का सबसे ऊंचा हवाई अड्डा दौलत बेग ओल्डी है। दौलत बेग ओल्डी में शनिवार को जमकर बर्फबारी हुई, जिससे पूर्वी लद्दाख में 1,597 किलोमीटर लंबी वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पास तापमान शून्य से नीचे चला गया। इससे बर्फीली हवाओं और सर्दी में तेजी से इजाफा हुआ। इतनी सर्दी के बावजूद में भारतीय सैनिक टस से मस नहीं हुए हैं। फिंगर एरिया में शून्य से नीचे तापमान पहुंचने पर पैन्गोंग झील के किनारे जमने लगे हैं।
दरअसल, भारतीय सेना के जवानों ने सभी क्षेत्रों में अपनी स्थिति को एक इंच भी नहीं बदला है और इस साल मई से पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के लिए खड़े हैं। वहीं जमीन पर सेना की स्थिति में कोई बदलाव नहीं हुआ है क्योंकि कुछ रिपोर्टों ने अनुमान लगाया है कि भारत और चीन दोनों ने कुछ बिंदुओं पर गश्त करने वाले क्षेत्रों के साथ सैनिकों को हटाने का फैसला किया है। बता दें कि भारत और चीन ने डी-एस्केलेशन पर वार्ता के आठ दौर पूरे कर लिए हैं, फिर भी यह स्पष्ट नहीं है।
हिम टेंट और इग्लू की पूरी व्यवस्था
मौसम से प्रभावित भारतीय सैनिक को हिम टेंट और इग्लू में रहते हैं, जो कि LAC के पार कंटेनरों में तैनात रहते हैं। भारतीय सेना पूरी तरह से विशेष बलों के साथ LAC पर तैनात होने के साथ, सीमा सड़क संगठन ने सभी उच्च पर्वतीय दर्रों को रखने का फैसला किया है- मार्सिमिका ला (हॉट स्प्रिंग्स के पास 18314 फीट), चांग ला (पंगु त्सो के लिए सड़क पर 17585 फीट) और खारदुंग ला (17582 फीट, सड़क पर डीबीओ) – पूरे सर्दियों में सेना की आवाजाही के लिए खुला है।
‘जो पहले पलक झपकेगा वह हार जाएगा’
एक शीर्ष सैन्य कमांडर ने कहा कि डी-एस्केलेशन से सहमत कदम के बारे में सभी रिपोर्ट अटकलें हैं क्योंकि सैन्य कमांडरों के स्तर पर अभी भी बातचीत जारी है। भारतीय सैनिकों के साथ जमीन पर किसी भी स्थिति में कोई बदलाव नहीं हुआ है और वह पीएलए तथा खराब मौसम से उत्पन्न चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार है। एक पूर्व सेना प्रमुख और एक शीर्ष राजनयिक दोनों ने कहा कि LAC पर सफलता आसानी से हासिल नहीं की जाएगी क्योंकि दोनों पक्ष एक दूसरे की क्षमता और मौसम के खिलाफ खड़े होने की क्षमता का परीक्षण कर रहे हैं। यह एक तरह का घूरने वाला खेल है। जो पहले पलक झपकेगा वह हार जाएगा।
लगातार पेट्रोलिंग कर रहे हैं सैनिक
पीएलए के सैनिक भी एलएसी पर पूरी तरह से डटे हुए हैं। इनमें गोगरा-हॉट स्प्रिंग्स, उत्तरी पैंगॉन्ग त्सो और दक्षिण पंगोंग त्सो में डीबीओ सेक्टर में सैनिक पूरी तत्परता के साथ तैनात हैं। इनपुट के अनुसार, गलवान सेक्टर में बेस कैंप पर और चीनी सैनिक निरंतर रोटेशन के साथ पैंगॉन्ग त्सो पर फिंगर फोर पर पैट्रोलिंग बनाए हुए हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *