कोरोना: UAE की मदद के लिए भारतीय नर्सें दुबई पहुंचीं

कोरोना संकट के दौर में एक तरफ़ जहां संयुक्त अरब अमीरात UAE में फँसे प्रवासी भारतीयों की वतन वापसी कराई जा रही है, वहीं दूसरी तरफ़ स्वास्थ्य संकट से जूझ रहे UAE की मदद के लिए भारतीय नर्सें दुबई पहुंची हैं. इंडिया इन UAE के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इस बारे में जानकारी दी गई है.
भारतीय नर्सें दुबई में लैंड कर चुकी हैं. इससे पता लगता है कि भारत और UAE का आपसी सहयोग जारी है.
एक अन्य ट्वीट में कहा गया है, “स्वास्थ्यकर्मियों की ओर से भारत, UAE और मानवता को सलाम. हम आप पर निर्भर हैं. आपको हमारा भी सलाम.”
इस ट्वीट के साथ एक तस्वीर भी पोस्ट की गई है जिसमें मास्क लगाए और ग्लव्स पहने स्वास्थकर्मी सलाम करते नज़र आ रहे हैं.
भारत से आईसीयू (इंटेंसिव केयर यूनिट) की 88 नर्सें शनिवार रात दुबई पहुंची हैं. सभी नर्सों और स्वास्थ्यकर्मियों ने शनिवार रात साढ़े आठ बजे के लगभग बेंगलुरु एयरपोर्ट से दुबई के लिए उड़ान भरी.
इस हवाई यात्रा का इंतज़ाम एस्टर डीएम एल्थकेयर ग्रुप, भारतीय दूतावास और यूएई के विदेश मंत्रालय की मदद से हुआ था.
गल्फ़ न्यूज़ की वेबसाइट पर प्रकाशित ख़बर के अनुसार दुबई हेल्थ अथॉरिटी के महासचिव हुमौद अल क़ुतामी ने कहा, “ये पहल दोनों देशों के क़रीबी रिश्ते का प्रमाण है. ये सरकारी और निजी हेल्थ सेक्टर के बीच सहयोग का भी बेहतरीन उदाहरण है.”
UAE में भारत के राजदूत पवन कपूर ने कहा, “इस महामारी से लड़ने में भारत और यूएई रणनीतिक साझेदारी और मज़बूत सहयोग का प्रदर्शन कर रहे हैं. इन दोनों देशों के बीच दोस्ती का सिद्धांत है कि ज़रूरत में दोस्त की मदद की जाए. ये हमारे पुराने रिश्ते को और मज़बूत करेगा.”
सोशल मीडिया पर इस बारे में अलग-अलग तरह की प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं. कुछ लोग भारत में ही दूसरे राज्यों में फँसे मज़दूरों की वापसी के बारे में सवाल कर रहे हैं.
कुछ लोगों ने उम्मीद जताई है कि UAE में इन नर्सों की सुरक्षा का पूरा ख़याल रखा जाएगा और उन्हें इतना बड़ा जोख़िम उठाने के लिए पर्याप्त भुगतान किया जाएगा.
कुछ ट्विटर यूज़र्स इसकी यह कहकर आलोचना कर रहे हैं कि भारत के हालात ख़ुद इतने ख़राब हैं और स्वास्थकर्मियों की कमी से जूझ रहा है. ऐसे में नर्सों को दूसरे देशों में भेजा जाना उचित फ़ैसला नहीं है.
एक ट्विटर यूज़र ने सलाह दी है कि वापसी के वक़्त इस विमान में UAE में फँसे भारतीयों को वापस लाया जाए.
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *