श्रीलंका में धमाकों के बाद भारतीय तटरक्षक ने निगरानी बढ़ाई

नई दिल्‍ली। भारतीय तटरक्षक ने श्रीलंका में भीषण विस्फोटों के बाद निगरानी बढ़ा दी है और गश्ती के लिए ज्यादा पोत और विमानों को तैनात किया है। तटरक्षक के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि निगरानी के लिए विभिन्न कदम उठाए गए हैं ताकि समुद्र के जरिए देश में किसी तरह का सुरक्षा खतरा नहीं हो।
अधिकारी ने कहा, ”हमने निगरानी के लिए तूतीकोरीन, मंडपम और कराईकल तटरक्षक स्टेशनों से सभी जहाजों को तैनात किया है।” उन्होंने कहा कि रविवार को विस्फोट की खबरें आने के बाद निगरानी बढ़ा दी गयी। श्रीलंका में रविवार को ईस्टर के दिन बम विस्फोट में 290 लोगों की मौत हो गयी और 500 से ज्यादा लोग घायल हो गए।
श्रीलंका विस्फोटों में सात आत्मघाती थे शामिल, मामले में 24 गिरफ्तार, मृतक संख्या पहुंची 290
श्रीलंका में रविवार को ईस्टर के मौके पर गिरजाघरों तथा होटलों को निशाना बनाकर किए गए घातक विस्फोटों को एक इस्लामी कट्टरपंथी संगठन से संबद्ध सात आत्मघाती हमलावरों ने अंजाम दिया था जिनमें अब तक 290 लोग की जान जा चुकी है और अन्य 500 लोग घायल हैं। इस द्वीपीय राष्ट्र में अभी तक के ये सबसे घातक हमले थे।
विस्फोट रविवार को स्थानीय समयानुसार सुबह पौने नौ बजे के करीब ईस्टर प्रार्थना सभा के दौरान कोलंबो के सेंट एंथनी गिरजाघर, पश्चिमी तटीय शहर नेगोम्बो के सेंट सेबास्टियन गिरजाघर और बट्टिकालोवा के जियोन गिरजाघर में हुए। वहीं कोलंबो के पांच सितारा होटलों – शांगरी ला, सिनामोन ग्रैंड और किंग्सबरी को भी निशाना बनाया गया।
रविवार को हुए हमले के लिये अभी तक किसी समूह ने जिम्मेदारी नहीं ली है, लेकिन इस मामले में 24 लोगों को गिरफ्तार किया गया है जिनमें से अधिकतर एक ही समूह से संबंधित हैं। पुलिस ने कहा कि गिरफ्तार किये गए 24 में से नौ लोगों को कोलंबो की मजिस्ट्रेट अदालत ने छह मई तक हिरासत में भेज दिया है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »