Tokyo Olympics में डबल डिज‍िट में मेडल जीतेगा भारत: डा. बत्रा

आगरा। भारतीय ओलम्पिक संघ के अध्यक्ष डा. नरिन्दर ध्रुव बत्रा ने शनिवार को एथलेटिक फेडरेशन आफ इंडिया की सालाना बैठक के दूसरे दिन आगरा के होटल हाली डे-इन में कहा कि देश अगर 2032 के Olympics खेलों की मेजबानी के सपने को साकार करना चाहता है तो Tokyo Olympics में उसे दोहरे अंक में पदक जीतना शुरू करना होगा। श्री बत्रा ने उम्मीद जताई कि भारत Tokyo Olympics में डबल डिजिट में पदक जीत सकता है।

श्री बत्रा के हाल ही में अंतरराष्ट्रीय ओलम्पिक समिति के सदस्य चुने जाने पर भारतीय एथलेटिक्स महासंघ ने अपनी वार्षिक आम बैठक में उन्हें सम्मानित किया। बत्रा ने कहा कि हम 2026 में युवा ओलम्पिक, 2030  में एशियाई खेलों और 2032 में ओलम्पिक खेलों की मेजबानी के लिए दावेदारी पेश कर रहे हैं। ऐसे में अगर हम ओलम्पिक में ज्यादा पदक जीतने में सफल नहीं रहे तो मेजबानी हासिल करना मुश्किल होगा। लोग कहेंगे की भारत ने ओलम्पिक में काफी कम पदक जीते हैं। श्री बत्रा ने कहा कि बड़े खेल आयोजनों की मेजबानी हासिल करने के लिए भारत को दोहरे अंक में पदक जीतने होंगे। हमें टोक्यो ओलम्पिक में 10 से 12 और 2024  में 25 पदक तथा 2028 के ओलम्पिक में लगभग 40 पदक जीतने होंगे। बत्रा ने कहा कि जब तक हम लक्ष्य निर्धारित नहीं करेंगे, कुछ भी हासिल नहीं कर सकते। मुझे लगता है कि ये ऐसे लक्ष्य हैं जिन्हें हासिल किया जा सकता है।

श्रीप्रकाश शुक्ला द्वारा ल‍िखी गई ” भारत की ख‍िलाड़ी बेटियां” क‍िताब का व‍िमोचन करते एथलीट

इस अवसर पर भारतीय ओलम्पिक संघ के अध्यक्ष डा. नरिन्दर बत्रा सह‍ित सभी ओलंपयिन एथलीट्स ने श्रीप्रकाश शुक्ला द्वारा ल‍िखी गई ” भारत की ख‍िलाड़ी बेटियां” क‍िताब को सराहा और भव‍िष्य में ऐसे खेल साहित्य को प्रोत्साहन दिए जाने की आवश्यकता बताई ताक‍ि नई पीढ़ी मौजूदा ख‍िलाड़ी बेट‍ियों से प्रेरणा ले सकें।

अब नहीं चलेगा उम्र का गोरखधंधा

होटल हाली डे-इन में हुई एथलेटिक्स फेडरेशन आफ इंडिया की वार्षिक आमसभा में कई अहम फैसले लिए गए। आयु प्रमाण पत्र में फर्जीवाड़ा कर जूनियर वर्ग में खेलने वाले सीनियर एथलीटों की समस्या को खत्म करने के लिए नियम लागू किया गया। अब जूनियर स्तर पर मेडल जीतने वाले खिलाड़ियों को सीनियर स्तर पर प्रमोट किया जाएगा ताकि और जूनियर खिलाड़ियों को प्रतिस्पर्धा का मौका मिल सके। बैठक में फेडरेशन के अध्यक्ष आदिल सुमरीवाला ने कहा कि हमारे एथलीट एशियन गेम्स तक तो सही खेलते हैं पर कॉमनवेल्थ व ओलम्पिक खेलों में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाते। आने वाले समय में हमें इस स्थिति को सुधारना होगा। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि एथलेटिक फेडरेशन आफ इंडिया डोपिंग को लेकर कुछ सख्त कदम उठाने का मन बना चुकी है। हम चाहते हैं कि डोपिंग को अपराध की श्रेणी में लाया जाए। इस मामले में एथलेटिक महासंघ प्रस्ताव बनाकर शीघ्र ही सरकार को भेजेगा ताकि इस पर कानून बन सके। बैठक में सुमरीवाला ने कहा कि देश में इसके लिए कड़ा कानून बने, इसके लिए फेडरेशन के स्तर पर भी कड़े नियम बनाए गए हैं। इसके लिए जीरो टॉलरेंस पर काम कर रहे हैं। आदिल सुमरीवाला ने कहा कि अब राज्यस्तरीय स्पर्धाओं में डोपिंग टेस्ट होगा। उन्होंने कहा कि देश में अच्छे एथलीटों को तैयार करने के लिए ट्रेंड एथलीटों के अलावा कम आयु के नए एथलीटों को तराशना होगा।

दो दिवसीय वार्षिक आमसभा में विभिन्न प्रदेशों से आए राज्यस्तरीय एथलेटिक्स फेडरेशनों के प्रतिनिधियों से उनकी विकास रिपोर्ट जानने के बाद कमियों पर नाराजगी जताई गई। इस अवसर पर एथलेटिक फेडरेशन की नई वेबसाइट लांच हुई। बैठक में भारतीय ओलम्पिक संघ के अध्यक्ष डॉ. नरिन्दर ध्रुव बत्रा, एशियन एथलेटिक्स संघ के उपाध्यक्ष ललित भनोट, पूर्व ओलम्पियन श्रीराम सिंह, पद्मश्री कृष्णा पूनिया, द्रोणाचार्य अवार्डी वीरेन्दर पूनिया, ज्योतिर्मय सिकदर, रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड के निदेशक प्रेम ओलप, सोमा विश्वास, जिला ओलम्पिक संघ के अध्यक्ष वीएसवी राठौर आदि मौजूद रहे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »