भारत बनाम श्रीलंका: शिखर धवन की कप्‍तानी पारी में बने कई रिकॉर्ड्स

भारत ने श्रीलंका को वनडे सीरीज के पहले मैच में सात विकेट से हरा दिया। भारत की इस जीत में कप्तान शिखर धवन ने अहम भूमिका निभाई। उन्होंने 86 रन की नाबाद पारी खेली। श्रीलंका ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 9 विकेट पर 262 रन बनाए। भारतीय बल्लेबाजों ने इस स्कोर को बौना साबित कर दिया और सिर्फ 36.4 ओवर में तीन विकेट खोकर 263 रन का लक्ष्य हासिल कर लिया। धवन ने इस पारी के दौरान कई मुकाम हासिल किए।
शिखर धवन वनडे इंटरनेशनल में सबसे तेजी से 6000 रन पूरे करने वाले भारतीय सलामी बल्लेबाज बन गए। उन्होंने रविवार को श्रीलंका के खिलाफ सीरीज के पहले मैच में यह मुकाम हासिल किया। इसके साथ ही वह भारत के लिए इस फॉर्मेट में 6 हजार रन पूरे करने वाले 10वें बल्लेबाज भी बने।
भारतीय कप्तान ने पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली (160 पारियां) और रोहित शर्मा (200 पारियां) को पीछे छोड़ा। धवन ने 140 पारियों में अपने 6000 रन पूरे किए।
धवन हाशिम अमला के बाद वनडे इंटरनेशनल में दुनिया के सबसे दूसरे सबसे तेजी से बल्लेबाज बने। साउथ अफ्रीका के हाशिम अमला ने सिर्फ 126 पारियों में यह मुकाम हासिल किया था। धवन कुल मिलाकर सभी बल्लेबाजों की बात की जाए तो धवन चौथे नंबर पर हैं। अमला (126), विराट कोहली (136) और केन विलियमसन (139) के बाद धवन का नंबर आता है।
इसके साथ ही धवन वनडे में भारत के कप्तान के रूप में सबसे उम्रदराज खिलाड़ी बने। उन्होंने 35 साल 225 दिन की उम्र में कप्तानी संभाली। वहीं अगर 6000 रन की बात करें तो भारतीय सलामी बल्लेबाजों में वह पांचवें खिलाड़ी हैं। उनसे पहले सचिन तेंडुलकर (15310), सौरभ गांगुली (9146), वीरेंदर सहवाग (7240) और रोहित शर्मा (7238) ने ओपनिंग करते हुए 6000 से ज्यादा रन बनाए हैं।
इसके साथ ही धवन ने श्रीलंका के खिलाफ 1000 वनडे रन भी पूरे कर लिए। पहले मैच में जब वह 17 के निजी स्कोर पर पहुंचे तो उन्होंने यह मुकाम हासिल कर लिया। उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ सिर्फ 17 पारियों में यह उपलब्धि हासिल की। अमला ने 18 पारियों में श्रीलंका के खिलाफ 1000 रन पूरे किए थे।
भारत ने बताया मेजबान को किस तरह करते हैं बेजुबान
इस मैच के बाद आकाश चोपड़ा ने श्रीलंका के पूर्व कप्तान अर्जुन राणातुंगा पर निशाना साधा। राणातुंगा ने कहा था कि भारत ने अपनी दोयम दर्जे की टीम भेजकर श्रीलंका का अपमान किया है।
श्रीलंका के खिलाफ सीमित ओवरों की सीरीज शुरू होने से पहले राणातुंगा ने श्रीलंका बोर्ड से सवाल किया था कि उसने कैसे बीसीसीआई को अपनी ‘दूसरे दर्जे’ की टीम भेजने की इजाजत दे दी। राणातुंगा ने इसे मेजबान देश का अपमान बताया था।
भारत और श्रीलंका के बीच सीरीज के पहले वनडे की समीक्षा करते हुए चोपड़ा ने कहा कि ऐसा लगता है कि भारतीय टीम ने राणातुंगा के शब्दों को बहुत गंभीरता से ले लिया है।
उन्होंने कहा, ‘क्या आपने उसे दिल पर ले लिया? राणातुंगा ने कहा कि भारत की दूसरे दर्जे की टीम भेजी गई है और यह उनके लिए अपमान है। 262 रन इतने भी कम नहीं होते कि आप मैच सात विकेट और 15 ओवर बाकी रहते जीत लें।’
चोपड़ा ने भारतीय टीम की बल्लेबाजी की खूब तारीफ की। उन्होंने टीम की जीत का श्रेय भारत की धाकड़ बल्लेबाजी को दिया। उन्होंने कहा, ‘युवा भारतीय टीम ने दिखाया कि मेजबान टीम को किस तरह शांत किया जाता है। माहौल थोड़ा बदल गया है। भारतीय टीम ने बता दिया कि मेजबान को किस तरह बेजुबान करते हैं।’ भारतीय टीम ने 263 रन का लक्ष्य सिर्फ तीन विकेट खोकर 37वें ओवर में हासिल कर लिया।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *