भारत-श्री लंका नागपुर टेस्‍ट मैच: विराट कोहली ने कई रिकॉर्ड बनाए

भारतीय कप्तान विराट कोहली जब भी मैदान पर उतरते हैं, क्रिकेट प्रेमी रिकॉर्ड बुक खंगालने लगते हैं कि अब वो कौन-सा नया कीर्तिमान रचने जा रहे हैं.
भारत और श्रीलंका के बीच नागपुर में खेले जा रहे दूसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन विराट ने अपने करियर का पांचवां दोहरा शतक पूरा किया.
विराट 213 रन बनाकर आउट हुए. अपनी मैराथन पारी में उन्होंने 267 गेंदों का सामना किया जिसमें 17 चौके और 2 छक्के शामिल रहे.
कप्तान के रूप में पांच दोहरे टेस्ट शतक लगाने वाले विराट दूसरे बल्लेबाज़ बन गए हैं. उन्होंने इस मामले में वेस्टइंडीज़ के पूर्व कप्तान ब्रायन लारा की बराबरी की है. विराट ने सिरीज़ के पहले मैच में भी शतक जड़ा था.
पॉन्टिंग को छोड़ा पीछे
अपना 62वां टेस्ट मैच खेल रहे विराट के नाम 19 शतक दर्ज हो चुके हैं. साल 2017 में विराट का यह चौथा टेस्ट शतक है. साथ ही अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के सभी फॉर्मेट को मिलाने पर साल 2017 में यह उनका 10वां शतक है.
इस तरह वो इस साल बतौर कप्तान सबसे ज़्यादा शतक लगाने वाले बल्लेबाज़ बन गए हैं. उनके पीछे 9 शतकों के साथ ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पॉन्टिंग हैं.
पॉन्टिंग ने लगातार दो साल 2005 और 2006 में कप्तान के रूप में नौ-नौ शतक लगाए थे. वहीं दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान ग्रीम स्मिथ ने भी साल 2005 में 9 ही शतक लगाए थे.
गावस्कर का रिकॉर्ड हुआ धराशाई
टेस्ट कप्तान के रूप में विराट का यह 12वां शतक है. इस तरह भारतीय कप्तानों में वे सबसे ज़्यादा शतक लगाने वाले बल्लेबाज़ बन गए हैं.
विराट ने सुनील गावस्कर को पीछे छोड़ा. गावस्कर ने 47 टेस्ट मैचों में कप्तानी की जिसमें 11 शतक लगाए, वहीं विराट का कप्तान के रूप में यह 31वां ही टेस्ट मैच है.
वनडे मैचों में सबसे अधिक शतक लगाने वाले कप्तान बनने से भी विराट सिर्फ़ एक कदम की दूरी पर हैं. वनडे में भारत की तरफ से कप्तान के रूप में सबसे अधिक शतक लगाने का रिकॉर्ड सौरव गांगुली के नाम है. गांगुली के नाम 11 शतक दर्ज हैं, वहीं विराट अभी तक कप्तान के रूप में 10 वनडे शतक जड़ चुके हैं.
ब्रैडमेन भी हो गए पीछे
क्रिकेट की दुनिया के सबसे दिग्गज बल्लेबाज कहे जाने वाले सर डॉन ब्रैडमेन को भी विराट ने कप्तानी के मामले में पीछे छोड़ दिया है.
वे अपने अर्धशतकों को जिस रफ्तार से शतकों में तब्दील करते हैं उस लिहाज़ से वे सबसे बेहतरीन कप्तान बन चुके हैं.
टेस्ट मैचों में विराट ने अभी तक 16 बार 50 का आंकड़ा पार किया है और इसमें से 12 बार उन्होंने अर्धशतक को शतक में तब्दील किया.
इस तरह 10 से अधिक मैचों में कप्तानी करते हुए अर्धशतक को शतक में बदलने के मामले में विराट का औसत सबसे बेहतरीन है. उनका औसत 75 प्रतिशत है.
वहीं इस मामले में ब्रैडमेन ने 21 बार 50 का आंकड़ा छुआ जिसे वे 14 बार शतक में तब्दील करने में कामयाब रहे और उनका औसत 67 प्रतिशत है. ऑस्ट्रेलिया के एक और पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क का औसत भी इतना ही है.
610 रन पर घोषित की पारी
नागपुर टेस्ट मैच के तीसरे दिन भारत ने अपनी पारी 6 विकेट के नुकसान पर 610 रन बनाकर घोषित की. भारत ने पहली पारी के आधार पर 405 रनों की बड़ी बढ़त हासिल की है.
जवाब में श्रीलंका की दूसरी पारी की शुरुआत अच्छी नहीं रही और उसे शून्य के स्कोर पर ही पहला झटका लगा. ईशांत शर्मा ने समर विक्रमा को बोल्ड किया. दिन का खेल खत्म होने तक श्रीलंका ने एक विकेट के नुकसान पर 21 रन बना लिए थे. करुणारत्ने 11 रन और थिरिमाने 9 रन बनाकर नाबाद रहे.
इससे पहले रविवार को भारत अपने दूसरे दिन के स्कोर 312/2 रन से आगे खेलने उतरा, चेतेश्वर पुजारा और विराट ने तीसरे विकेट के लिए 183 रनों की साझेदारी निभाई, पुजारा 143 रन बनाकर आउट हुए.
उसके बाद बल्लेबाजी करने उतरे अजिंक्य रहाणे कुछ खास नहीं कर सके और महज 2 रन बनाकर आउट हो गए.
विराट को दूसरे छोर से रोहित शर्मा का बेहतरीन साथ मिला. दोनों ने मिलकर तेज़ी से बल्लेबाज़ी करते हुए टीम इंडिया का स्कोर 500 के पार कर दिया. विराट जब आउट हुए तब तक दोनों बल्लेबाज़ पांचवें विकेट के लिए 173 रन जोड़ चुके थे.
रोहित का भी शतक
रोहित ने भी अपना शतक पूरा किया, उन्होंने 160 गेंदों में 102 रनों की नाबाद पारी खेली. इस मैच में भारत की तरफ से कुल चार शतक लगे. मुरली विजय (128), चेतेश्वर पुजारा (143), विराट कोहली (213) और रोहित शर्मा (102 नाबाद).
लगभग सात साल बाद ऐसा हुआ है जब किसी टेस्ट मैच की एक पारी में चार भारतीय बल्लेबाज़ों ने शतक जमाए. इससे पहले 2010 में दक्षिण अफ्रीका के ख़िलाफ़ भारतीय टीम ने यह कारनामा किया था वहीं साल 2007 में बांग्लादेश के ख़िलाफ़ खेले गए मीरपुर टेस्ट में भी चार भारतीय बल्लेबाज़ों ने शतक जमाए थे.
भारत और श्रीलंका के बीच कोलकाता में खेला गया पहला मैच ड्रॉ रहा था.
-BBC