विजय Mallya को सौंपने के लिए भारत ने यूके को भेजी प्रत्यर्पण रिक्‍वेस्‍ट

India sent an extradition request to UK for hand over Vijay Mallya
विजय Mallya को सौंपने के लिए भारत ने यूके को भेजी प्रत्यर्पण रिक्‍वेस्‍ट

नई दिल्‍ली। बैंकों के कर्जदार और मार्च से लंदन में रह रहे विजय Mallya की वापसी के लिए भारत ने यूके से रिक्‍वेस्‍ट कर दी है। विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को बताया कि नई दिल्ली में यूके हाई कमीशन को भारत की तरफ से एक्स्ट्राडिशन (प्रत्यर्पण) रिक्वेस्ट दी गई है।
बता दें कि पिछले दिनों 1000 से भी ज्‍यादा पेज की चार्जशीट में सीबीआई ने किंगफिशर एयरलाइंस पर कई आरोप लगाए। आरोप है कि एयरलाइन ने आईडीबीआई की तरफ से मिले 900 करोड़ रुपए के लोन में से 254 करोड़ रुपए का निजी इस्‍तेमाल किया।
एजेंसी ने ये भी कहा था कि आईडीबीआई ने कंपनी को रविवार के दिन लोन दिया, जो कि आरबीआई के नियमों के खिलाफ है।
इस मामले में आईडीबीआई बैंक के पूर्व चेयरमैन योगेश अग्रवाल सहित 9 लोगों को हाल में गिरफ्तार किया गया था।
डीआरटी दे चुकी है कर्ज वसूली के आदेश
बता दें कि डेट रिकवरी ट्रिब्‍यूनल (डीआरटी) ने विजय माल्या से बैंकों को 6,203 करोड़ रुपए के कर्ज की वसूली की प्रक्रिया शुरू करने को मंजूरी दे दी थी।
6203 करोड़ रुपए के कर्ज पर 11.5% प्रति साल की ब्याज दर से वसूली की जाएगी।
डीआरटी के प्रोजाइडिंग ऑफिसर के. श्रीनिवासन ने कहा था, “बैंक माल्या और उनकी कंपनियों UBHL, किंगफिशर फिनवेस्ट और किंगफिशर एयरलाइन्स से 6203 करोड़ रुपए के कर्ज पर 11.5% प्रति साल की ब्याज दर से वसूली की प्रॉसेस शुरू करें।”
करीब 3 साल तक चली कानूनी लड़ाई के बाद बैंकों को कर्ज वसूली की मंजूरी मिली थी।
मदद मांगी थी लोन नहीं: माल्या
माल्या ने कुछ दिनों पहले किंगफिशर एयरलाइंस के बंद होने के लिए सरकार की पॉलिसीज और उस दौर की इकोनॉमिक कंडीशंस को जिम्मेदार ठहराया था। माल्या ने कहा था कि जनता के पैसे से सरकार के स्वामित्व वाली एयर इंडिया को बेलआउट दिया गया, लेकिन ‘सबसे बड़ी घरेलू एयरलाइन’ को ऐसे ही छोड़ दिया गया।
माल्या ने अपने बचाव में कई ट्वीट किए थे। माल्या ने ‘जनता का पैसा एयर इंडिया को दिए जाने’ पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि उन्होंने पॉलिसी में बदलाव से संबंधित मदद मांगी थी। माल्या ने सीबीआई और सेबी से ये भी कहा कि उन्हें बताना होगा कि उनपर किस आधार पर आरोप लगाए गए।
कितने कर्जदार हैं माल्या?
31 जनवरी 2014 तक किंगफिशर एयरलाइंस पर बैंकों के 6,963 करोड़ रुपए बकाया था। इस कर्ज पर इंटरेस्ट के बाद माल्या की टोटल लायबिलिटी 9,000 करोड़ रुपए से ज्यादा हो चुकी है।
स्टेट बैंक ऑफ इंडि‍या (SBI) की अगुआई वाले बैंकों का कन्सोर्टियम किंगफिशर हाउस का कई बार ऑक्शन कर चुका है, लेकिन कोई खरीदार नहीं मिला।
इसमें एसबीआई कैप ट्रस्टी कंपनी लिमिटेड शामिल है। इस कंपनी को फरवरी 2015 में किंगफिशर हाउस का कब्जा मिला था।
किंगफिशर एयरलाइंस अक्टूबर 2012 में बंद हो गई थी। दिसंबर 2014 में इसका फ्लाइंग परमिट भी कैंसल कर दिया गया।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *