भारत ने कहा, हम श्रीलंका के साथ पूरी दृढ़ता के साथ खड़े हैं

नई दिल्ली। श्रीलंका में सीरियल धमाकों में 150 से ज्यादा लोग मारे गए हैं जबकि 400 से ज्यादा घायल हैं। भारत ने ईस्टर रविवार के पवित्र अवसर पर पड़ोसी देश में हुए धमाकों की निंदा करते हुए साथ खड़े रहने का वादा किया है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम वैंकेया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित कई बड़े नेताओं और अन्य ने पीड़ितों के प्रति संवेदना जाहिर की है।
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्विटर पर जारी अपने संदेश में कहा, ‘भारत श्रीलंका में हुए आतंकवादी हमले की निंदा करता है और सरकार व जनता के प्रति संवेदना प्रकट करता है। निर्दोष लोगों पर ऐसी बुद्धिहीन हिंसा की सभ्य समाज में कोई जगह नहीं है। हम श्रीलंका के साथ पूरी दृढ़ता के साथ खड़े हैं।’
उपराष्ट्रपति एम वैंकेया नायडू
उपराष्ट्रपति एम वैंकेया नायडू ने कहा, ‘ईस्टर रविवार के पवित्र अवसर पर कोलंबो में हुए धमाकों में हताहत मासूम नागरिकों और उनके परिजनों के प्रति हार्दिक संवेदना व्यक्त करता हूं। इस पावन अवसर पर इस विक्षिप्त हिंसा पर स्तब्ध हूं।’
उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा, ‘इस दुर्घटना में घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ के लिए प्रार्थना करता हूं। ईश्वर घायलों और हताहतों के परिजनों को शोक की इस घड़ी में धैर्य और साहस दें।’
पीएम मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी लिखा, ‘श्रीलंका में भयानक धमाकों की कड़ी निंदा। हमारे क्षेत्र में ऐसी बर्बरता के लिए कोई जगह नहीं है। भारत श्रीलंका के लोगों के साथ मजबूती से खड़ा है। मेरी भावनाएं शोकसंतप्‍त परिवारों के साथ हैं और घायलों के लिए प्रार्थना करता हूं।’
कांग्रेस पार्टी
कांग्रेस पार्टी की ओर से जारी बयान में कहा गया, ‘ईस्टर के पवित्र दिन श्रीलंका के कई चर्चों पर भयान हमलों से हम दुखी हैं। दुख की इस घड़ी में हम लोगों के साथ हैं और जल्दी उबरने के लिए प्रार्थना करते हैं।’
ममता बनर्जी
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी इस घटना पर दुख जाहिर करते हुए ट्विटर पर लिखा, ‘श्रीलंका से आ रही परेशान करने वाली खबरों से चकित और दुखी हूं। किसी भी तरह की हिंसा को स्वीकार नहीं किया जा सकता है। ईस्टर शांति का त्योहार है। मेरी भावनाएं और प्रार्थना पीड़ित परिवारों के साथ है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »