हाफिज सईद पर पाकिस्तान की कार्यवाही को भारत ने दिखावा बताया

नई दिल्‍ली। पाकिस्तान द्वारा 26/11 हमले के मास्टर माइंड हाफिज सईद पर पाकिस्तान की कार्यवाही को भारत ने दिखावा बताया है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, ‘हमें पाकिस्तान के अधूरे एक्शन से उसके झांसे में नहीं आना चाहिए। पाकिस्तान आतंकी समूहों और आतंकवादियों पर कार्यवाही को लेकर कितना गंभीर है, इसका फैसला सत्यापनीय, विश्वसनीय और अपरिवर्तनीय कार्यवाही को प्रदर्शित करने की उनकी क्षमता के आधार पर किया जाएगा।’
उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को आतंकी समूहों पर ऐसी कार्यवाही करनी होगी, जिसे बार-बार बदला न जाए। उन्होंने कहा, ‘आधे-अधूरे कदम उठाकर पाकिस्तान सिर्फ अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की आंखों में धूल झोंकता रहा है। हम पाकिस्तान के साथ आतंक मुक्त माहौल में सामान्य संबंध चाहते हैं।’
मंत्रालय के प्रवक्ता से पूछा गया कि क्या भारत ने एफएटीएफ के साथ दाऊद को लेकर भी कोई रिपोर्ट दी है? इस पर उन्होंने कहा, ‘दाऊद इब्राहिम की लोकेशन अब कोई रहस्य नहीं है। हम पाकिस्तान को कई बार ऐसे लोगों की लिस्ट सौंप चुके हैं, जो पाकिस्तान में हैं। हम कई बार उनसे ऐसे लोगों को भारत को सौंपने की मांग कर चुके हैं।’
उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान आतंक के खिलाफ कार्यवाही का दावा करता है, लेकिन जब हम ऐसे लोगों पर कार्यवाही करने को कहते हैं, जो साफ तौर पर आतंकी गतिविधियों में शामिल हैं तो वह मुकर जाता है। वहीं दूसरी तरफ अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के सामने ऐसा दिखाने की कोशिश करता है कि वह आतंकवाद के खिलाफ कार्यवाही कर रहा है।’
उन्होंने कहा, ‘ये दोहरे मापदंड हैं। जब भी वे आतंकवाद के खिलाफ कार्यवाही की बात करते हैं तो खुद-ब-खुद दुनिया के सामने उजागर हो जाते हैं।’
करतारपुर कॉरिडोर पर होगी बात
करतारपुर कॉरिडोर पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, ‘हमने पाकस्तान के साथ बातचीत के लिए कुछ तारीखों का प्रस्ताव रखा था, जिस पर वे राजी हो गए हैं। वे 14 जुलाई को बातचीत के लिए भारत आएंगे। इससे जुड़े कई मुद्दों पर मतभेद हैं, हम उन पर चर्चा करेंगे। यह भावनाओं का मामला है। यह सिख समुदाय के लिए बेहद महत्वपूर्ण मुद्दा है।’
बता दें कि पाकिस्तान ने बुधवार को मुंबई हमले के मास्टरमाइंड और जमाद-उद-दावा के सरगना हाफिज सईद के खिलाफ आंतकी फंडिंग का केस दर्ज किया था। हाफिज अकेला नहीं है, उसके अलावा भी कई आतंकियों के खिलाफ लाहौर, गुजरांवाला और मुलतान में केस दर्ज किए गए हैं। हालांकि पाकिस्तान पहले भी ऐसे कदम उठा चुका है। ऐसे में साफ तौर पर यह नहीं कहा जा सकता है कि उसने दुनिया को दिखाने के लिए नहीं, वास्तव में आतंकियों के खिलाफ ऐक्शन लेना शुरू कर दिया है।
पंजाब आतंकवाद निरोधक विभाग ने हाफिज के प्रतिबंधित संगठन के खिलाफ यह कार्यवाही की है। आतंकवाद निरोधक कानून के तहत 5 प्रतिबंधित संगठनों दावातुल इरशाद ट्रस्ट, मोएज बिन जवाल ट्रस्ट, अल अनफाल ट्रस्ट, अल मदीना फाउंडेशन ट्रस्ट और अलहमाद ट्रस्ट के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। इन मामलों में जिन्हें नामजद किया गया है, उनमें हाफिज सईद, अब्दुल रहमान मक्की, अमीर हमजा और मुहम्मद याहया अजीज शामिल हैं। इन लोगों पर जो आरोप लगाए गए हैं, उनमें चैरिटी के नाम पर आतंकवाद के लिए वित्तपोषण प्रमुख है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *