संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्‍तान द्वारा कश्मीर मुद्दा उठाने पर भारत ने दी तीखी प्रतिक्रिया, आतंकवाद पर मांगा जवाब

संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान द्वारा कश्मीर मुद्दा उठाए जाने पर भारत ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। भारत ने कहा कि दशकों से पाकिस्तान का ध्यान राष्ट्र नीति के तौर पर आतंकवाद के स्पष्ट इस्तेमाल के जरिए भारत की क्षेत्रीय अखंडता को कमजोर करने पर रहा है। संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की राजदूत मलीहा लोधी ने बुधवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा में शांति की संस्कृति पर उच्च स्तरीय फोरम को संबोधित करते हुए एक बार फिर कश्मीर का राग अलापा।
लोधी ने कहा, ‘विदेशी कब्जे और आत्मनिर्णय के अधिकार समेत मौलिक अधिकार न देने से कब्जे वाले इलाके के लोगों और शोषितों के बीच अन्याय की भावना को बढ़ावा मिलता है।’
उन्होंने मानवाधिकारों के लिए संयुक्त राष्ट्र के पूर्व उच्चायुक्त जेद राद अल हुसैन द्वारा कश्मीर पर जारी हालिया रिपोर्ट का जिक्र करते हुए कहा, ‘कश्मीर और फिलिस्तीन में लोगों के दर्द और पीड़ा से ज्यादा स्पष्ट यह और कहीं नहीं है।’
संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन में मंत्री श्रीनिवास प्रसाद ने कहा कि शांति की संस्कृति महज कोई सिद्धांत नहीं है जिस पर चर्चा की जाए, बल्कि यह देशों के बीच वैश्विक संबंधों में सक्रिय रूप से स्थापित होनी चाहिए। कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए प्रसाद ने कहा कि यह विडंबना है कि पाकिस्तान एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए न्याय और आत्मनिर्णय के लिए एक अनुमानित चिंता की आड़ ले रहा है।
प्रसाद ने पाकिस्तान के दावों का खंडन करते हुए कहा, ‘पाकिस्तान ने भारतीय क्षेत्र पर एक बार फिर दावा जताने के लिए इस मंच का इस्तेमाल करना चुना। यह स्पष्ट है कि दशकों से पाकिस्तान का ध्यान देश की एक नीति के तौर पर आतंकवाद के स्पष्ट इस्तेमाल के जरिए भारत की क्षेत्रीय अखंडता को कमजोर करने पर रहा है।’ उन्होंने दोहराया कि जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है और हमेशा रहेगा।
उन्होंने कहा, ‘एक लोकतंत्र के तौर पर भारत ने हमेशा लोगों की पसंद का पालन किया है और वह आतंकवाद और चरमपंथ द्वारा इस आजादी को कमजोर नहीं होने देगा।’
प्रसाद ने कहा कि भारत का चिरकालिक सिद्धांत ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ या ‘विश्व एक परिवार है’ की अवधारणा का रहा है। महात्मा गांधी का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, ‘अहिंसक क्रांति सत्ता पर काबिज होने का कार्यक्रम नहीं है। यह संबंधों में बदलाव का कार्यक्रम है।’
प्रसाद ने कहा, ‘वैदिक युग से लेकर महान शिक्षक महावीर और बुद्ध से लेकर गांधी तक भारत का संदेश हमेशा शांति की संस्कृति की जरुरत के बारे में रहा है। शायद यह शांति की संस्कृति की विरासत के कारण है जिसने भारत का निर्माण किया जो विभिन्न संस्कृतियों और धर्मों का सामंजस्यपूर्ण मिश्रण है।’उन्होंने कहा कि भारत भगवान बुद्ध का जन्म स्थान है तो दुनिया में मुस्लिमों की दूसरी सबसे बड़ी आबादी इस देश में है। प्रसाद ने कहा, ‘हम इस विरासत को लेकर सचेत एवं गौरवान्वित हैं और इसलिए शांति की संस्कृति के प्रति हमारी प्रतिबद्धता स्वाभाविक और सहज है।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »