भारत को हिंदू परंपरा स्वीकार करनी ही होगी: योगी आदित्‍यनाथ

गोरखपुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का मानना है कि भारत को हिंदू परंपरा स्वीकार करनी ही होगी।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज अपनी कर्मस्थली गोरखपुर के गोरखनाथ मंदिर में ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ और महंत अवेद्यनाथ के पुण्यतिथि समारोह को संबोधित कर रहे थे।
योगी आदित्यनाथ ने कहा कि धर्म को केंद्र में रखकर सामाजिक सौहार्द, शिक्षा, स्वास्थ्य और समानता के जो भी कार्यक्रम होते रहे हैं, गोरक्ष पीठ उनमें अग्रणी रही है। यदि भारत को भारत रहना है तो हिंदू परंपरा को स्वीकार करना ही होगा। यह परंपरा पलायन को चुनौती देने वाली है।
उन्होंने कहा कि ब्रह्ललीन महंत दिग्विजयनाथ इस चुनौती को लेकर चले और राष्ट्रीय चेतना से जुड़ कर उसे नई गति देने का कार्य किया। उन्होंने कहा कि जिसने भी भारत की मूल चेतना के खिलाफ आवाज उठाई है, गोरक्ष पीठ उसके खिलाफ जमकर खड़ी हुई है।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पीठ को स्वाधीनता आंदोलन से जोड़ते हुए कहा कि बंकिम चंद्र ने सन्यासी विद्रोह के आधार पर ही वंदे मातरम की रचना की थी और भारत के सन्यास परंपरा को राष्ट्र धर्म से जोड़ा था। गोरक्ष पीठ इसी परंपरा को आगे बढ़ा रही है।
नाथ पीठ के संतों ने ही द्वंद्व को किया है दूर
गोरखनाथ मंदिर में ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ और महंत अवेद्यनाथ के पुण्यतिथि समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित विधान सभा अध्‍यक्ष ह्रदय नारायण दीक्षित ने कहा कि हमारे देश में हमेशा द्वंद्व का प्रभाव रहा है। कभी राजनीति और धर्म का द्वंद्व तो कभी योग और भक्ति का।
इस द्वंद्व को दूर करने का काम नाथ पीठ के संतों ने किया। खासकर दिग्विजयनाथ द्वन्द्व की हिचकिचाहट को दूर करने के लिए मुखर रूप से सामने आए। महंत अवेद्यनाथ और योगी आदित्यनाथ इसी परंपरा को आगे बढ़ा रहे हैं। दीक्षित ने कहा कि दिग्विजयनाथ ने ज्ञान को कर्म बनाया साथ ही कर्म को ज्ञान बनाने का कार्य भी किया।
सन्यासियों को भी पथ से भटका सकता है जन और धन का समर्थन
स्वामी चिन्मयानंद ने कहा कि जन और धन का समर्थन सन्यासियों को भी पथ से भटका सकता है। राम रहीम और रामपाल बना देता है। गोरक्षपीठ इससे बहुत ऊपर है। जन और धन के समर्थन से इस पीठ ने प्रेरणा ली है, जन सेवा की। स्वामी चिनमयानंद शनिवार को गोरखनाथ मंदिर में ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ और महंत अवेद्यनाथ के पुण्यतिथि समारोह को संबोधित कर रहे थे।
-एजेंसी