भारत और सेशल्स के बीच नेवल बेस बनाने के प्राेजेक्ट पर सहमति, 6 समझौते हुए

नई दिल्ली। भारत और सेशल्स के बीच नौसेना अड्डे को लेकर सोमवार को एक महत्वपूर्ण समझौता हुआ। एक दूसरे की चिंताओं को ध्यान में रखते हुए नेवल बेस बनाने के प्राेजेक्ट पर सहमति बन गई है। सेशल्स के राष्ट्रपति की भारत यात्रा के दौरान हुआ यह समझौता काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि कुछ दिन पहले सेशल्स ने भारत के साथ अपने असम्पशन आइलैंड पर नौसैनिक अड्डा बनाने के समझौते को रद्द करने का ऐलान किया था। हालांकि अब उसकी चिंताएं दूर हो गई हैं।
सेशल्स के राष्ट्रपति से मुलाकात के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम एक-दूसरे के अधिकारों की मान्यता के आधार पर असम्पशन आइलैंड परियोजना पर मिलकर काम करने को सहमत हुए हैं। सेशल्स के राष्ट्रपति डैनी फॉरे ने कहा कि असम्पशन आइलैंड परियोजना पर चर्चा हुई और हम एक-दूसरे के हितों का ध्यान रखते हुए साथ मिलकर काम करेंगे ।
इससे पहले एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में राष्ट्रपति डैनी फॉरे ने कहा था कि जब वह भारत आएंगे तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ असम्पशन आइलैंड प्रॉजेक्ट को लेकर कोई चर्चा नहीं करेंगे। सेशल्स का यह कदम एक तरह से भारत के कूटनीतिक प्रयासों के लिए असफलता के तौर पर देखा जा रहा है। हालांकि अब दोनों देशों के बीच सहमति बन गई है।
हिंद महासागर में भारत को होगा सामरिक लाभ
आपको बता दें कि यह नेवल बेस भारत के लिए काफी महत्वपूर्ण है। हिंद महासागर में इस प्राेजेक्ट से भारत को सामरिक लाभ होगा। मोदी ने आगे कहा, ‘भारत और सेशल्स प्रमुख सामरिक सहयोगी हैं। हम लोकतंत्र के मूल सिद्धांतों का सम्मान करते हैं और हिंद महासागर में शांति, सुरक्षा और स्थिरता कायम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।’
6 समझौते हुए, 10 करोड़ डॉलर का कर्ज देगा भारत
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सेशल्स के राष्ट्रपति डैनी फॉरे की बैठक के बाद दोनों देशों ने छह समझौतों पर हस्ताक्षर किए। इस दौरान फॉरे ने बहुपक्षीय कारोबार समझौतों, सुरक्षा और डिफेंस को लेकर प्रधानमंत्री मोदी की दूरदर्शिता की प्रशंसा की। इस दौरान भारत ने सेशल्स को समुद्री सुरक्षा क्षमता बढ़ाने के लिए 10 करोड़ डालर कर्ज देने की भी घोषणा की।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »