बच्चे का सिर्फ IQ ही नहीं AQ भी बढ़ाएं

तनाव और कंपटीशन के इस माहौल में बच्चों पर हम अपनी अपेक्षाओं का बोझ डाल देते हैं परंतु ये नहीं सोचते क‍ि वे इस माहौल में कैसे र‍िएक्ट करेंगे इसल‍िए उनके आई क्यू को बढ़ाने में लगे रहने के साथ साथ उनका AQ (Advertising quotient) भी बढ़ाना समय की जरूरत हो जाता है।

माता पिता पर बच्चों की अच्छी परवरिश की एक बड़ी जिम्मेदारी होती है। ऐेसे में अभिभावक होने के नाते आपको अपने बच्चों को आने वाले कल की तमाम तरह की मुश्किलों के लिए भी तैयार करने की कोशिश करनी चाहिए। सिर्फ ये काफी नहीं कि आपने उन्हें पढ़ा लिखा दें और सभी सुविधाएं दिला दें। इससे वो अपने IQ (इंटेलिजेंस कोशंट) और कई हद तक इमोशनल कोशंट (EQ) तो बढ़ा सकते हैं, पर जीवन की असली लड़ाई में ये काम नहीं आता। असल में इस सब के बीच कुछ ऐसा भी है, जिसका माता-पिता अक्सर अनदेखी कर देते हैं और वो है AQ (Advertising quotient)। तो आइए जानते हैं कि क्या होता है AQ और बच्चों में इसके गुण डालना भी क्यों जरूरी है।

क्या होता है AQ 
लंबे समय से, यह माना जाता था कि एक अच्छा IQ (इंटेलिजेंस कोशंट) होना ही सफलता का एकमात्र पैमाना था। पर यह सच नहीं है। सफल होने के लिए, एक व्यक्ति को IQ, SQ (सोशल कोशंट), इमोशनल कोटिएंट (EQ) और AQ (एडवांसिटी क्वोटिएंट) के अच्छे गुण होने चाहिए। इनमें से, एक मजबूत AQ आज के वक्त के अनुसार सबसे अधिक मांग वाले गुणों में से एक है और ऐसा कुछ है जो आपको कम उम्र से बच्चों को सिखाना चाहिए। विशेषज्ञों का कहना है कि IQ की तुलना में अच्छा AQ ज्यादा महत्वपूर्ण है।

AQ एडवांसिटी कोशंट को संदर्भित करता है। दरअसल यह एक उपाय है, जिसे वैज्ञानिकों के समूह द्वारा देखा जाता है कि जीवन में प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना करने के दौरान कोई व्यक्ति कैसे प्रतिक्रिया या व्यवहार करता है। मजबूत, स्मार्ट और भावनात्मक रूप से लचीला होने जैसे गुणों को बच्चों में बढ़ाने के लिए, एक मजबूत आईक्यू होना न सिर्फ महत्वपूर्ण है, बल्कि ये जरूरी है कि उनके अंदर विपरित स्थितियों के प्रति भी एक अनुकुलता पैदा हो। विपत्तियों के साथ मुकाबला करना और लचीला होना एक आवश्यक जीवन कौशल है, जिसे हमें कम उम्र में बच्चों को सिखाना होगा। AQ का मजबूत होना मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं की शुरुआत को भी रोकता है। ऐसे दावे भी हैं कि AQ बढ़ाने से उत्पादकता, क्षमता, प्रदर्शन, नवाचार और मनोबल में लाभ हो सकता है।

बच्चों को क्यों AQ सिखाना चाहिए 
AQ काफी हद तक उम्र-अप्रासंगिक है। भले ही आप बच्चों को चुनौतीपूर्ण उपायों के लिए प्रेरित नहीं कर सकते, लेकिन यह सुनिश्चित करना कि वे जानते हैं कि कठिन स्थिति का सामना कैसे करना है, या कैसी प्रतिक्रिया देनी है।विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि बच्चों को प्रतिकूल परिस्थितियों से निपटने के लिए सिखाना और बनाना महत्वपूर्ण है ताकि वे अपने आगे पड़े भविष्य के लिए तैयारी करें। जीवन की चुनौतियों या प्रतिकूलताओं को समाप्त करने का कोई संभव तरीका नहीं है। इसलिए, युद्ध करने का एक अच्छा तरीका यह है कि खुद में इसके लिए एक धैर्य, लचीलापन और साहस पैदा किया जाए। भावनात्मक रूप से मजबूत और लचीला बच्चे किसी भी आघात से निपटने में बेहतर पकड़ रखते हैं और बड़े होने पर उन्हें नुकसान होने की संभावना कम होती है।

वैज्ञानिक एमी वर्नर, जिन्होंने मानव व्यवहार का अध्ययन किया, उन्होंने उच्च प्रतिकूलता वाले बच्चों में निम्नलिखित विशेषताएं बताई हैं:

– ऐसे बच्चे एक सक्रिय शिक्षार्थी और जीवन की समस्याओं से आसानी से लड़ने वाले होते हैं।
-किसी भी मुद्दे को हल करने या अनुभव करने के लिए रचनात्मक दृष्टिकोण अपनाते हैं।
-किसी झटके से पीड़ित होने पर आसानी से हार न मानते हुए आगे बढ़ने की सोचते हैं।
-विश्वास और सकारात्मक दृष्टिकोण बनाए रखते हैं।

ऐसे बढ़ा सकते हैं AQ 
जैसे आप अपना आईक्यू बढ़ा सकते हैं, वैसे ही AQ को बढ़ाना पूरी तरह से संभव है। बच्चे में AQ बढ़ाने के लिए आप उनमें बचपने से इसकी सीख दे सकते हैं। ऐसा करने के तरीकों में से एक यह है कि अपने बच्चे को आत्म-जागरूक होने के लिए सिखाएं, प्रतिक्रिया के लिए खुला रखें और पहचानें कि उनमें कहाँ कमी है। इस तरह, वे खुद को सुधारना सीख सकते हैं। इसके अलावा आप बचपने से उन्हें कुछ ऐसी चीजें सीखा सकते हैं। जैसे कि

-बच्चों को खेल खेलते हुए ही मुश्किल परिस्थितियों में डालें और देखें कि वो कैसे रिएक्ट करते हैं।
-सीधे चीजों को उल्टा करके दें और उसे सुलाझाने को कहें।
-उनके साथ मुश्किल दिमागी खेलों को खेलें।
-उन्हें खुद से चीजों को खराब करने और ठीक करने की आजादी दें।

– Legend News

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *