क्रिकेट की भाषा में इमरान को सीख, अफगानिस्तान में ‘बॉल टेंपरिंग’ न करें

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अफगानिस्तान को लेकर दिए एक बयान पर घिर गए हैं।
इमरान खान की टिप्पणी को लेकर अफगानिस्तान में भारत के राजदूत ने जॉन आर. बास ने कहा है कि इमरान को यह समझना चाहिए कि क्रिकेट के कुछ पहलू कूटनीति में भी लागू होते हैं।
इमरान खान को यह ध्यान रखना चाहिए कि अफगानिस्तान में जारी शांति प्रक्रिया और आंतरिम मामलों में ‘बॉल टेंपरिंग’ यानी छेड़छाड़ न करें।
दूसरी ओर इस मामले में अमेरिका ने भी उन्हें हिदायत देते हुए कहा है कि वह अफगानिस्तान के आतंरिक मामलों में दखल न दें।
पीएम इमरान खान ने कहा था कि तालिबान के साथ वार्ता को अफगानिस्तान की अंतरिम सरकार ही आगे बढ़ा सकती है।
अफगानिस्तान के विदेश मंत्रालय ने भी काबुल स्थित पाकिस्तान उप-उच्चायुक्त को तलब किया था। राष्ट्रपति अशरफ गनी सरकार के विदेश मंत्री ने कहा था, ‘अंतरिम सरकार की बातचीत और शांति प्रक्रिया को लेकर इमरान खान की टिप्पणी अवांछित है। यह इस बात का परिचायक है कि पाकिस्तान की किस तरह से दखल देने की नीति रही है और वह किसी भी देश की संप्रभुता को महत्व नहीं देता है।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »