झुके Imran Khan, इस्तीफे को छोड़ सभी मांग मानने को तैयार

नई द‍िल्ली। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री Imran Khan विपक्ष की सभी मांगे मानने को तैयार हो गए हैं लेकिन वो अपने पद से इस्तीफा नहीं देंगे। Imran Khan ने मंगलवार को कहा कि वह अपने इस्तीफे के अलावा मौलाना फजलुर रहमान के नेतृत्व में ‘आजादी मार्च’ के प्रदर्शनकारियों की सभी ‘वैध’ मांगों को स्वीकार करने के लिए तैयार हैं।

प्रधानमंत्री खान ने कथित तौर पर रक्षा मंत्री परवेज खट्टक के नेतृत्व वाली टीम के साथ एक बैठक में यह टिप्पणी की कि विपक्षी दलों ने इस्लामाबाद में हजारों प्रदर्शनकारियों के साथ बड़े पैमाने पर मार्च में हिस्सा लेने का काम किया। सरकार इस्तीफे की मांग को छोड़कर सभी वैध मांगों को स्वीकार करने के लिए तैयार है।

दि एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने इमरान के बयान को कोट करते हुए लिखा है, “इस्तीफे के अलावा सरकार सभी वाजिब मांगों को मानने के लिए तैयार है।” जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, यह बैठक सरकारी वार्ता दल और रहबर समिति के बीच दूसरे दौर की वार्ता से पहले हुई है. रहबर समिति में विपक्षी दलों के प्रतिनिधि शामिल हैं।

इमरान ने की सरकारी वार्ता दल से मुलाकात

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने मंगलवार को रक्षामंत्री परवेज खट्टक की अगुवाई वाले सरकारी वार्ता दल से मुलाकात कर जेयूआई-एफ के ‘आजादी मार्च’ के संबंध में आगे की कार्रवाई पर चर्चा की। जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, यह बैठक सरकारी वार्ता दल और रहबर समिति के बीच दूसरे दौर की वार्ता से पहले हुई है। रहबर समिति में विपक्षी दलों के प्रतिनिधि शामिल हैं।

मौलाना रहमान गिराना चाहते हैं इमरान सरकार

द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, खट्टक और पंजाब विधानसभा के अध्यक्ष चौधरी परवेज इलाही ने रहबर कमेटी के साथ हुई बातचीत की जानकारी प्रधानमंत्री खान को दी। इलाही ने जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम-फजल (जेयूआई-एफ) प्रमुख मौलाना फजलुर रहमान के साथ अपनी बैठक के बारे में भी इमरान खान को जानकारी दी। रहमान पाकिस्तान की सत्तारूढ़ तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) सरकार को गिराने के लिए मार्च का नेतृत्व कर रहे हैं।

जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम फजल (जेयूआई-एफ) के नेता बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे हैं, जो मंगलवार को पांचवें दिन में प्रवेश कर गया। ‘आजादी मार्च’ में प्रदर्शनकारियों ने इमरान खान के इस्तीफे की मांग करते हुए 2018 के आम चुनावों में धांधली का आरोप भी लगाया।

पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) सहित विपक्षी दल सरकार विरोधी रैली के बहाने अपना वजन बढ़ाने में लगे हैं।

– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *