इमरान सरकार भी नवाज की राह पर, कुलभूषण जाधव मामले पर पुराना राग गाया

पाकिस्तान में इमरान खान की नई सरकार ने भी दावा किया है कि उनके पास भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव के खिलाफ ‘पक्के सबूत’ हैं। पाकिस्तान के नए विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा है कि उन्हें पूरा भरोसा है कि इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) का फैसला उनके हक में ही जाएगा। अप्रैल 2017 में 47 वर्षीय कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान की एक मिलिटरी अदालत ने जासूसी के आरोप में मौत की सजा सुनाई थी।
पिछली साल मई में भारत ने इस फैसले के खिलाफ ICJ का रुख किया था। अंतर्राष्ट्रीय अदालत ने अंतिम फैसला आने तक जाधव की फांसी पर रोक लगा रखी है। भारत और पाकिस्तान, दोनों ने ही इस मामले में कोर्ट के सामने विस्तार से अपना पक्ष रख चुके हैं। कुरैशी ने मुल्तान में मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि हमारे पास जाधव के खिलाफ पक्के सबूत हैं और उम्मीद है कि ICJ में हमारी जीत होगी।
बुधवार को जियो टीवी ने सूत्रों के हवाले से खबर दी थी कि ICJ में इस मामला की सुनवाई अगले साल फरवरी में की जाएगी। पाकिस्तान का दावा है कि उसके सुरक्षाबलों ने मार्च 2016 में जाधव को बलूचिस्तान से गिरफ्तार किया था। पाकिस्तान का आरोप है कि जाधव ईरान के रास्ते पाकिस्तान में घुसने की कोशिश कर रहे थे।
ICJ में पक्ष रखते हुए पाकिस्तान ने दावा किया है कि कुलभूषण कोई आम आदमी नहीं बल्कि जासूस हैं और पाकिस्तान में साजिशों को अंजाम देने के इरादे से घुस रहे थे। भारत ने पाकिस्तान के इन सभी आरोपों को खारिज कर दिया है। भारत ने कहा है कि जाधव को ईरान से किडनैप किया गया है। भारत का कहना है कि नैवी से रिटायमेंट के बाद जाधव वहां अपने बिजनस के काम से थे और उनका सरकार से कोई लिंक नहीं था।
कुरैशी ने जाधव के अलावा भारत-पाकिस्तान के बीच बातचीत की संभावना पर भी टिप्पणी की। कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान कश्मीर के कोई इशू को शांति से सुलझाना चाहता है। उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि भारत पाकिस्तान के बातचीत के ऑफर को स्वीकार करेगा।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »