एमनेस्टी इंटरनेशनल को अवैध फंडिंग, सरकार ने संस्‍था के काम पर रोक लगाई

नई दिल्‍ली। केंद्र सरकार ने अवैध फंडिंग को लेकर एमनेस्टी इंटरनेशनल के काम पर रोक लगा दी है। सरकार के अनुसार एमनेस्टी इंटरनेशनल अवैध रूप से फंड मिल रहा है जबकि यह Foreign Contribution (Regulation) Act के तहत रजिस्टर्ड नहीं है। सरकारी अधिकारियों का कहना है कि एमनेस्टी इंटरनेशनल पर विदेश से पैसा लेने में वित्तीय अनियमितताओं का आरोप है और ईडी इसकी जांच कर रही है।
गृह मंत्रालय के मुताबिक संस्था को एफडीआई के जरिए फंड मिला जिसकी गैर सरकारी संगठनों के मामले में अनुमति नहीं है।
दूसरी ओर मानवाधिकार संस्था एमनेस्टी इंटरनेशनल ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया है कि वह उसके खिलाफ बदले की भावना से काम कर रही है। उसके बैंक अकाउंट्स को पूरी तरह फ्रीज कर दिया गया है जिससे उसके लोगों को भारत में काम बंद करने के लिए मजबूर होना पड़ा है।
संस्था का दावा है कि उसने दिल्ली में इस साल फरवरी में हुए दंगों पर दिल्ली पुलिस से जवाबदेही की मांग की थी। साथ ही जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकार उल्लंघन पर केंद्र से सवाल पूछे थे। यही कारण है कि सरकार उसके खिलाफ बदले की भावना से काम कर रही है और उसकी वित्तीय परिसंपत्तियों को निशाना बनाया जा रहा है। संस्था ने कहा कि बैंक अकाउंट्स फ्रीज करने की जानकारी उसे 10 सितंबर को मिली।
आवाज बंद करने की कोशिश
एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर अविनाश कुमार ने कहा कि पिछले दो साल से एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया के खिलाफ लगातार कार्यवाही हो रही है और हमारे बैंक अकाउंट्स को पूरी तरह फ्रीज कर दिया गया है। हम सरकार और पुलिस में लगातार पारदर्शिता और जवाबदेही की मांग उठाते रहे हैं जिससे सरकारी एजेंसियों द्वारा हमारा उत्पीड़न किया जा रहा है। इनमें ईडी भी शामिल है। हम अन्याय के खिलाफ आवाज उठाते हैं और सरकार की कार्यवाही इस आवाज को दबाने को कोशिश है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *