गाजीपुर में मुख़्तार अंसारी के होटल का अवैध निर्माण ज़मींदोज़

गाजीपुर। मुख़्तार अंसारी की पत्नी और बच्चों के नाम से संचालित गाजीपुर के महुआबाग में निर्मित ग़ज़ल होटल के अवैध निर्मित हिस्से को तोड़े जाने का फैसला सुनाने के बाद डीएम को अध्यक्षता वाले बोर्ड ने रविवार को सुबह 7 बजे से भारी फोर्स की मौजूदगी में अवैध निर्मित हिस्सों को 5 बुलडोजर ने जमींदोज कर दिया।

अंसारियों का यह जिला मुख्यालय पर पहला निर्मित भवन था। रविवार को सुबह 7 बजे ग़ज़ल होटल के अवैध निर्मित हिस्से को तोड़ने का काम शुरू हो गया। 5 बुलडोजर ने 3 घंटे से समय में अवैध चिन्हित हिस्से को गिरा दिया। दो मंजिला ग़ज़ल होटल के पहले तल को पूरी तरह और भूतल को आंशिक रूप से गिराया जाना था। इस मामले में बोर्ड ने मास्टर प्लान की अनदेखी के आधार पर यह फैसला सुनाया था। शनिवार रात को ही इस भवन से संचालित दुकानों के मालिकों ने अपनी दुकानें खाली कर ली थीं।
बताते चलें कि इस भवन से एक निजी बैंक और उसका एटीएम भी संचालित होता है। बताया जा रहा है कि यह बैंक पहले ही सामने के भवन में शिफ्ट हो चुका है। ग़ज़ल होटल महुआबाग चौराहे पर निर्मित है, जिसको ध्यान में रखते हुए जिला प्रशासन ने ध्वस्तीकरण के बाद जमा मलबे को हटाने की जिम्मेदारी नगर पालिका को दी है।
ग़ज़ल होटल में साल 2004 में चुनावी बैठक आयोजित की जाती थी। यही वह साल है, जब मुख्तार अंसारी ने बड़े भाई अफजाल अंसारी लोकसभा चुनाव लड़े थे। अफजाल उस चुनाव में जीते भी थे। ग़ज़ल होटल कालांतर में अंसारियों के गेस्ट हाउस में तब्दील हो गया था। यह होटल कभी भी व्यावसायिक विस्तार नहीं पा पाया, इसके पीछे भी होटल के साथ अंसारियों का नाम जुड़ा होना ही मुख्य वजह बताई जा रही है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *