IITians और Bankers ने शुरू किया किसानों के लिए स्टार्टअप ऐप Kisanmeet

नई दिल्ली। कृषि क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव लाने और किसानों को उनके उत्पादों के लिए खरीदारों से उचित मूल्य प्राप्त करने की समस्या को दूर करने के लिए IITians और Bankers के एक समूह ने एक सामाजिक स्टार्टअप मोबाइल ऐप  “Kisanmeet” www.Kisanmeet.com शुरू किया है, जो ग्रामीण इलाकों में किसानों की स्थिति में सुधार करेगा और शहरी क्षेत्रों में मुद्रास्फीति को कम करेगा।

इस मोबाइल ऐप प्लेटफॉर्म का मकसद किसानों को सीधे उनके खरीदारों से जोड़ना और उन्हें समृद्ध बनाना है। यह विशेष रूप से किसानों के लिए बनाया गया अनोखा, सरल और उपयोग करने में आसान ऐप है जो किसानों को उनके उत्पादों का उचित मूल्य दिलाने में सक्षम बनाता है।

दूसरी ओर यह उनके सभी प्रकार के खरीदारों को भी पसंद आएगा, जैसे कि रेस्तरां, ढाबा, होटल, कैटरिंग, मैरिज पैलेस, बेकरी, मिठाई की दुकानें, सब्जी और फल विक्रेता, किराना दुकानें या सामान्य घरेलू ग्राहक। किसानों द्वारा सीधे आपूर्ति की व्यवस्था से ताजा, शुद्ध और बिना मिलावट वाले उत्पादों की आपूर्ति सुनिश्चित होती है। चूंकि किसानों और खरीदारों के बीच बिचौलियों और व्यापारियों की कोई भूमिका नहीं है, इसलिए मंडी और परिवहन लागतों के साथ इन सभी लागतों में कटौती करके अधिक बचत होगी।

मोबाइल ऐप Kisanmeet किसानों को अपनी बिक्री की आवश्यकता दर्ज करके अपने उत्पादों का उचित मूल्य प्राप्त करने में सक्षम बनाता है। इन बिक्री की आवश्यकताओं को खरीदारों के खरीदने के विवरण के साथ मिलान किया जाता है। खरीदारों से संबंधित विवरणों के मिलान के बाद, ऐप kisanmeet संबंधित किसानों को सूचनाओं के माध्यम से खरीदार प्रदान करता है। उसी तरह, खरीदारों को भी किसानों से उनकी मांग को पूरा करने के लिए सूचनाएं मिलती हैं। एक दूसरे से सीधे संपर्क करने के लिए संदेश भेजने और डायरेक्ट कॉलिंग के विकल्प भी ऐप पर उपलब्ध हैं।

मोबाइल ऐप Kisanmeet किसानों के लिए ‘फसल कैलकुलेटर’ की एक असाधारण सुविधा प्रदान करता है जो कि फसल उत्पादन पर उपयोग किए गए सभी इनपुट और खर्चों का विवरण रखता है। इससे उन्हें अपने उत्पाद की कीमत की गणना करने में मदद मिलेगी और वे स्वयं कीमत निर्धारित कर सकते हैं। दूसरी ओर यह लागत कैलकुलेटर ग्राहकों को भी दिखाई देगा जो खरीदारों को अपने उत्पाद पर इस्तेमाल किए गए कीटनाशकों और रसायनों के विवरण के साथ साथ किए गए सभी खर्चों को देखने में सक्षम करेगा। आपूर्ति की यह प्रणाली फसलों के उत्पादन में पारदर्शिता प्रदान करेगी, जो समुदाय को स्वस्थ भोजन की ओर ले कर जाएगी। यह प्रणाली खुद ही भारत के बेहतर स्वास्थ्य के लिए जैविक खेती को प्रोत्साहित करेगी और किसानमीत जैविक खेती करने वाले किसानों और उनके ग्राहकों के बीच पुल प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है।

खरीदारों की मांग पैदा करने के लिए किसनमीत की टीमों ने पहले ही अपना काम शुरू कर दिया है और थोक खरीदारों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए हर महीने 45000 से अधिक अतिरिक्त किसानों की आवश्यकता होगी।

अधिक विवरण वेबसाइट www.kisanmeet.com पर उपलब्ध हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »