मेरे बेटे के खिलाफ कांग्रेस पर सबूत हैं तो अदालत में पेश करे: अमित शाह

अहमदाबाद। बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह ने पहली बार बेटे जय शाह की कंपनी पर आर्थिक अनियमितता के आरोपों का जवाब दिया है।
एक टीवी चैनल से बातचीत में अमित शाह ने कहा कि जय की कंपनी ने सरकार के साथ कोई कारोबार नहीं किया है, कोई सरकारी जमीन नहीं ली है और न ही कोई ठेका लिया है। यह किसी भी तरह के भ्रष्टाचार का मामला नहीं है। यदि कांग्रेस के पास इस मामले में कोई सबूत है तो वह उसे अदालत में पेश करे।
अमित शाह ने उल्टे कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा, ‘आजादी के बाद के 70 सालों में कांग्रेस पर अब तक भ्रष्टाचार के तमाम आरोप लगे हैं। क्या आज तक उन्होंने कभी मानहानि का केस दायर किया?’
शाह ने कहा कि मेरे बेटे ने अदालत जाकर 100 करोड़ की मानहानि का केस किया है और पूरे मामले की खुद ही जांच कराने की मांग की है। हम पर आरोप लगा तो हमने 100 करोड़ का मानहानि केस कर दिया। कांग्रेस पर इतने आरोप लगे, उन लोगों ने कितने पर केस किया? अगर उनके पास सबूत है तो सामने आए।
टर्नओवर और मुनाफे में अंतर
अमित शाह ने पूरे मामले पर पहली बार विस्तार से जवाब देते हुए कहा, ‘जय की कंपनी का कमोडिटीज एक्सपोर्ट का बिजनेस है। इस कंपनी का टर्नओवर 50,000 रुपये से बढ़कर 80 करोड़ रुपये तक पहुंच गया है लेकिन ध्यान देने की बात यह है कि टर्नओवर और मुनाफे में अंतर होता है। कंपनी कमोडिटीज के एक्सपोर्ट और इंपोर्ट का कारोबार करती है इसलिए उसका इतना बड़ा टर्नओवर है।’
करप्शन मसले पर कांग्रेस को घेरते हुए अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस के कई नेता पर करप्शन के आरोप हैं। कई नेताओं के खिलाफ अदालत में मामले चल रहे हैं। इसके बावजूद कांग्रेस इन नेताओं पर कार्यवाही करने के बजाय बीजेपी पर गलत आरोप लगा रही है।
रोहिंग्या के मसले पर बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि यह मानवाधिकार का मसला नहीं है। रोहिंग्या पर देश की सुरक्षा से कोई समझौता नहीं किया जाएगा। कांग्रेस को देश की सुरक्षा पर अपना मत स्पष्ट करना चाहिए। बीजेपी की सरकार में देश की सरहद पूरी तरह सुरक्षित है। गुजरात चुनाव में वोट डालते वक्त जनता को यह बात ध्यान में रखे।
-एजेंसी