IDBI बैंक के ग्राहकों को कल से हो सकती है दिक्‍कत, 6 दिवसीय हड़ताल की चेतावनी

IDBI बैंक के ग्राहकों को अगले सप्ताह काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। बैंक के अधिकारियों ने एलआईसी द्वारा बैंक के प्रस्तावित अधिग्रहण और वेतन संबंधी मुद्दों को लेकर सोमवार से छह दिन की हड़ताल पर जाने की चेतावनी दी है।
IDBI बैंक ने पिछले दिनों नियामकीय सूचना में कहा, ‘बैंक को अधिकारियों के एक तबके से नोटिस मिला है। नोटिस में 16 जुलाई 2018 से 21 जुलाई 2018 तक हड़ताल पर जाने की बात कही गई है।’
IDBI बैंक कर्मचारियों की वेतन समीक्षा नवंबर 2012 से लंबित है। उन्होंने पिछले साल हड़ताल पर जाने की चेतावनी दी थी, लेकिन बाद में प्रबंधन से आश्वासन मिलने के बाद इसे वापस ले लिया गया। इससे पहले, ऑल इंडिया आईडीबीआई ऑफिसर्स एसोसिएशन ने केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के सामने अपनी बात रखते हुए 51 प्रतिशत हिस्सेदारी एलआईसी को बेचे जाने के प्रस्ताव का विरोध किया था।
उनका कहना था कि इस हिस्सेदारी बिक्री को बैंक के निजीकरण के समान समझा जाएगा। इस बीच, एक सूत्र ने कहा कि बीमा नियामक इरडा से मंजूरी मिलने के बाद सार्वजनिक क्षेत्र की बीमा कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) कर्ज में डूबे IDBI बैंक में 51 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने को लेकर तैयारी कर रही है। फिलहाल एलआईसी, आईडीबीआई बैंक, उसकी संपत्ति और कर्ज की स्थिति की जांच पड़ताल कर रही है।
एलआईसी यूनियन का भी विरोध
एलआईसी की कर्मचारी यूनियनें भी बीमा कंपनी द्वारा सार्वजनिक क्षेत्र के IDBI बैंक में 51 प्रतिशत हिस्सेदारी के अधिग्रहण के प्रस्ताव का विरोध कर रही हैं। यूनियनों का कहना है कि इससे पॉलिसीधारकों और उनके प्रीमियम के धन के हित पर असर पड़ेगा।
फेडरेशन आफ एलआईसी क्लास वन ऑफिसर्स एसोसिएशन ने पूर्व में सार्वजनिक बैंकों में किए गए निवेश प्रदर्शन का उल्लेख करते हुए कहा है कि इन बैंकों के शेयर मूल्य में उल्लेखनीय गिरावट आई है जिससे हमारा मुनाफा प्रभावित हो सकता है।
रिपोर्ट्स के अनुसार, एलआईसी ने 2014-15 में सरकारी बैंकों में 1,850 करोड़ रुपये और 2015-16 में 2,539 करोड़ रुपये का निवेश किया है। एलआईसी के पास फिलहाल IDBI बैंक की 11 प्रतिशत हिस्सेदारी है। बैंक के कुल कर्ज में दबाव वाली संपत्तियों का हिस्सा 35.9 प्रतिशत है। मार्च तिमाही के अंत तक बैंक की सकल गैर निष्पादित आस्तियां (एनपीए) 55,588 करोड़ रुपये थीं।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »