यौन आरोपों पर और सख्‍त कार्यवाही का प्रस्‍ताव ला सकती है आईसीसी

देशभर में #MeToo एक आंदोलन का रूप ले चुका है। अपने साथ हुए यौन अत्याचार को लेकर कई महिलाएं अब खुलकर सामने आ रही हैं। इसमें कई बड़े लोगों पर भी आरोप लग रहे हैं। इस पूरी प्रक्रिया में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के सीईओ राहुल जौहरी का नाम सामने आने के बाद अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद आरोपियों के खिलाफ नया प्रस्ताव लाने का विचार रहा है।
क्रिकेट की अंतर्राष्ट्रीय संस्था अब यौन अत्याचार के आरोपी खिलाड़ियों, टीम अधिकारियों, अंपायरों, पत्रकारों और वेंडर्स पर किसी टूर्नामेंट में भाग लेने या स्टेडियम में प्रवेश तक का बैन लगा सकती है। खबर के मुताबिक आज सिंगापुर में होने वाली बैठक, जिसमें टेस्ट खेलने वाले सभी देशों के नुमाइंदे मौजूद होंगे, में यह प्रस्ताव रख सकती है।
अगर यह प्रस्ताव मान लिया जाता है तो आईसीसी खिलाड़ियों, अधिकारियों या टीम से जुड़े वेंडर्स को यौन उत्पीड़न का आरोप लगने के बाद आईसीसी या उसके द्वारा आयोजित करवाए जा रहे टूर्नामेंट्स में, स्टेडियम में प्रवेश करने से रोक पाएगी। आईसीसी के एक सूत्र ने बताया कि इस प्रस्ताव का उद्देश्य महिलाओं के अधिकारों की रक्षा करना और वर्कप्लेस को यौन उत्पीड़न से मुक्त करना है।
आईसीसी के सूत्र ने मुंबई मिरर से कहा, ‘कार्यस्थल को यौन उत्पीड़न से मुक्त जगह बनाना इस प्रस्ताव का एकमात्र उद्देश्य है। हमारे प्रस्ताव का उद्देश्य आईसीसी इवेंट्स के दौरान महिलाओं के अधिकारों की रक्षा करना है। उदाहरण के लिए अगर एक महिला पत्रकार को आईसीसी इवेंट्स के दौरान प्रताड़ित किया जाता है, उसे एक आसान और निजी शिकायत दर्ज करवानी होगी। हम सबको यह संदेश देना चाहते हैं कि क्रिकेट में यौन उत्पीड़न को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »