मुझे ऐसा साथी चाहिए जो मुझे बदलने की कोशिश न करें: ईशा गुप्ता

बॉलीवुड अभिनेत्री ईशा गुप्ता आज अपना 36वां जन्मदिन सेलिब्रेट कर रही हैं। ईशा गुप्ता इंडस्ट्री में अपनी बोल्डनेस की वजह से जानी जाती हैं। वह सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं और अक्सर अपनी बोल्ड और हॉट तस्वीरें शेयर करती रहती हैं, जिस वजह से ईशा इंटरनेट पर हंगामा मचा देती हैं। इतना ही नहीं, वह अपने बयानों की वजह से भी चर्चाओं में आती रहती हैं। अपने जन्मदिन के मौके पर ईशा गुप्ता ने एक इंटरव्यू दिया है, जिसमें अभिनेत्री ने अपनी निजी जिंदगी के जुड़ी अफवाहों से लेकर शादी जैसे मुद्दों पर खुलकर बात की। दरअसल, ईशा गुप्ता ने बताया कि उन्हें अपने लिए चल रही खबरों से कोई फर्क नहीं पड़ता है। उनकी लाइफ में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण परिवार और दोस्त हैं और जब इनकी बात आती है तो वह काफी प्राइवेट इंसान हैं। लोग उनके बारे में जो भी लिखते हैं उससे अभिनेत्री को फर्क नहीं पड़ता है।

ईशा गुप्ता ने अपने इंटरव्यू में कहा, ‘लोग केवल यह जानते हैं कि मैं शेयर करती हूं लेकिन उन चीजों को देखकर उन्हें लगता है कि वे बहुत कुछ जानते हैं। जब मेरे परिवार और दोस्तों की बात आती है तो मैं एक बेहद निजी व्यक्ति हूं। लोग बहुत कुछ लिखते हैं लेकिन मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।’

ईशा गुप्ता ने इंटरव्यू में इस बात पर भी दुख व्यक्त किया कि महिलाओं को हमेशा पुरुषों से कम आका जाता है। अभिनेत्री ने बताया कि वह अपनी लाइफ के अगले चैप्टर में कदम रखने से पहले सही समय का इंतजार करेंगी। ईशा गुप्ता ने शादी पर अपने विचार रखते हुए कहा, ‘हमारे परिवार में, महिलाएं पुरुषों की तुलना में अधिक सफल होती हैं, और माता-पिता अपनी बेटियों को स्वतंत्र होना सिखाते हैं। अगर मैं सबसे अमीर आदमी से शादी कर लेती हूं और वह मुझे छोड़ देता है, तो मैं गुजारा भत्ता के साथ नहीं रहना चाहती। मेरे पास अपना कुछ होना चाहिए। मैं अपना उपनाम नहीं बदलना चाहती हूं। मुझे एक ऐसा साथी चाहिए जो मेरा समर्थन करें और मुझे बदलने की कोशिश न करें।’

ईशा गुप्ता ने ये भी बताया कि वह खेल प्रेमी हैं और वह खेल पर एक फिल्म करना चाहती हैं। अभिनेत्री ने कहा, ‘यह मेरे लिए एक सपने जैसा है। मैं रानी पीटी ऊषा जी पर आधारित फिल्म का हिस्सा बनना पसंद करूंगी। घुड़सवारी और स्काई डाइविंग से लेकर गहरे सी डाइविंग (समुद्र में गोते लगाना) तक, मैं एक फिल्म में सब कुछ करना चाहती हूं और अगर मैं उस खेल के बारे में कुछ नहीं जानती हूं तो मैं उसे 12 घंटे में सिखने का जज्बा भी रखती हूं।’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *