मानवाधिकार आयोग की टीम पहुंची हैदराबाद, अस्पताल का भी दौरा किया

हैदराबाद। हैदराबाद में डॉक्टर के साथ गैंगरेप कर उसकी हत्‍या करने के चारों आरोपियों की पुलिस मुठभेड़ के दौरान मौत पर अब राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग भी सक्रिय हो गया है।
बलात्‍कार और हत्या के ये चारों आरोपी शुक्रवार को पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए थे। इस मामले को लेकर शनिवार को आयोग की टीम ने हैदराबाद पहुंचकर जांच की।
आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि एनएचआरसी की टीम ने महबूबनगर के सरकारी अस्पताल का भी दौरा किया, जहां चारों आरोपियों के शव पोस्टमॉर्टम के बाद रखे गए हैं।
एनएचआरसी ने कथित मुठभेड़ में चार आरोपियों के मारे जाने पर संज्ञान लेते हुए शुक्रवार को जांच के आदेश दिए थे। देश में मानवाधिकार की सर्वोच्च संस्था ने कहा था कि मुठभेड़ चिंता का विषय है और इसकी सावधानीपूर्वक जांच किए जाने की जरूरत है। एनएचआरसी ने कहा, ‘आयोग की राय है कि इस मामले की जांच बेहद सावधानीपूर्वक किए जाने की जरूरत है। इसी के अनुरूप, उसने अपने महानिदेशक (अन्वेषण) को तत्काल एक टीम मामले की जांच के लिए मौके पर भेजने को कहा है।
घटनास्थल पर भी जा सकती है एनएचआरसी की टीम
कहा जा रहा है कि एनएचआरसी की यह टीम चट्टनपल्ली गांव में मुठभेड़ स्थल और शहर के बाहरी इलाके में स्थित टोल प्लाजा का दौरा कर सकती है, जहां 27 नवंबर की रात महिला के साथ कथित तौर पर सामूहिक दुष्कर्म हुआ था। चारों आरोपियों का पोस्टमॉर्टम महबूबनगर जिले के सरकारी जिला अस्पताल में हुआ और इसकी वीडियॉग्रफी भी कराई गई है।
9 दिसंबर तक सुरक्षित रहेंगे आरोपियों के शव
तेलंगाना हाई कोर्ट ने शुक्रवार को प्रदेश सरकार को निर्देश दिया था कि वह चारों आरोपियों के शव 9 दिसंबर को रात 9 बजे तक सुरक्षित रखे। हैदराबाद के निकट शुक्रवार की सुबह पुलिस के साथ मुठभेड़ में चारों आरोपी मार गिराए गए थे। इन चारों को 25 वर्षीय महिला से दुष्कर्म और हत्या के आरोप में 29 नवंबर को गिरफ्तार किया गया था।
बता दें कि शुक्रवार तड़के हुए इस मुठभेड़ को लेकर लोग दो धड़ों में बंटे नजर आ रहे हैं। एक वर्ग इसका समर्थन कर रहा है तो तमाम लोगों ने यह भी कहा है कि इस तरह से गैर-न्यायिक हत्याएं ठीक नहीं है। यही नहीं कांग्रेस, बीजेपी समेत कई राजनीतिक दलों के दिग्गज नेताओं ने भी इस पर सवाल खड़े किए हैं। हालांकि तमाम हस्तियों ने इसे न्याय करार देते हुए इस कार्यवाही का स्वागत किया है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *