Hindu Janajagruti समिति मंदिर निर्माण के लिए जप करेगी

Hindu Janajagruti समिति ने प्रेस विज्ञप्‍ति जारी करते हुए कहा है कि वह अब अपने साथियों-समर्थकों के साथ श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए देशभर में ‘श्रीरामनाम का जप’करेगी

यह ऐतिहासिक सत्य है कि अयोध्यानगरी करोडों हिन्दुओं का श्रद्धास्थान है तथा प्रभु श्रीराम की जन्मभूमि है। हिन्दुओं के धर्मग्रंथों में इसके अनेक प्रमाण हैं । विविध पौराणिक स्थल इसके साक्षी हैं । ऐसा होते हुए वास्तव में यह विवाद न्यायालय में जाना अपेक्षित नहीं था। हिन्दुओं को हिन्दुओं के श्रद्धास्थान हिन्दुस्थान में ही सिद्ध करने पड रहे हैं, यह दुर्भाग्य है । न्यायालय में पुरातत्वीय प्रमाणों के आधार पर यह पुनः सिद्ध हो चुका है तथा वर्ष 2010 में इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने ठप्पा भी लगाया है कि ‘श्रीरामजन्मभूमि प्रभु श्रीराम की ही है ।’ गत आठ वर्षों से यह विवाद सर्वोच्च न्यायालय में पडा हुआ है। हिन्दू श्रीराम मंदिर के लिए और कितनी प्रतीक्षा करेंगे ? जिस प्रकार संसारभर के मुसलमान मक्का-मदीना तथा ईसाई जेरूसलेम जाते हैं। उस प्रकार संसारभर के हिन्दुओं की श्रद्धास्थान श्रीरामजन्मभूमि में हिन्दुओं को साधारण पूजा करने की भी अनुमति नहीं है । गत अनेक वर्षों से प्रभु श्रीराम यहां कपडे के तंबू में है, एक प्रकार से यह श्रीराम का अनादर ही है । कांग्रेस शासन तो श्रीराम का अस्तित्व ही नहीं मानता, इसलिए उनसे श्रीराम मंदिर की अपेक्षा ही नहीं थी । हिन्दुत्ववादी भाजपा शासन ने उनके घोषणापत्र में श्रीराम मंदिर का सूत्र लेकर भी गत साढेचार वर्षों में कुछ नहीं किया । लोकतंत्र का आधारस्तंभ बनी हमारी न्यायव्यवस्था कहती है कि ‘श्रीराम मंदिर हमारी प्राथमिकता नहीं है ।’ अब हमारा इनमें से किसी पर विश्‍वास नहीं रह गया है । अब प्रभु श्रीराम ही एकमात्र आधारस्तंभ रह गए हैं । इसलिए अब हम प्रभु श्रीराम से ही सामूहिक प्रार्थना करनेवाले हैं । हम देशभर के हिन्दू श्रद्धालुओं को आवाहन करते हैं कि ‘श्रीराम मंदिर निर्माण का संकल्प करें और प्रभु श्रीराम को प्रार्थना करें, श्रीराम मंदिर निर्माण में आ रही विविध बाधाएं दूर करें, सरकार के मंत्रियों को श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश जारी करने का बल मिले और न्यायालय के संबधित न्यायाधीश इस प्रकरण में शीघ्र निर्णय कर पाएं ।’ अपने निकट के श्रीराम मंदिर में एकत्रित होकर सामूहिक रूप से ‘श्रीराम जय राम जय जय राम ।’ का नामजप करें । संभव हो, उस स्थान पर एकत्रित आकर मंदिरों में प्रभु श्रीराम की आरती करें।

Hindu Janajagruti समिति आवाहन करती है कि श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए अब प्रभु श्रीराम की कृपा संपादन करना आवश्यक है ।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »