Rajiv International स्कूल में हिंदी कविता व सम्भाषण प्रतियोगिता

Rajiv International स्कूल में पर्यावरण और देशभक्ति पर खूब बोले बच्चे,
आरके एजूकेशन हब के चैयरमेन डा. रामकिशोर अग्रवाल और वाइस चैयरमेन पंकज अग्रवाल और एमडी मनोज अग्रवाल बोले-ऐसी प्रतियोगिताएं कराते रहें

मथुरा। Rajiv International स्कूल की प्राइमरी कक्षाओं में चारों सदनों के मध्य हिंदी कविता वाचन की प्रतियोगिता हुई। इसमें कक्षा 1 से 5 तक के छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। इस कविता प्रतियोगिता का विषय ’पर्यावरण’ तथा ’देशभक्ति’ रहा। इसके साथ ही चारों सदनों के मध्य भी माध्यमिक स्तर पर हिंदी सम्भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ स्कूल के प्रधानाचार्य शैलेन्द्र सिंह ग्रेवाल ने मां सरस्वती की छवि पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलित करके किया। प्रत्येक वर्ग की विषय वस्तु आज के समाज में उपस्थित ज्वलंत समस्याओं पर आधारित थी। इस कार्यक्रम का उद्देश्य बच्चों में कविता वाचन की बारीकियों से अवगत कराना तथा उन्हें विचार अभिव्यक्ति का मौका देना था ।

इस अवसर पर कविता वाचन की प्रतियोगिता के प्रथम वर्ग में प्रथम स्थान सान्वी यादव ने द्वितीय स्थान अक्षिता बंसल ने तथा तृतीय स्थान आदित्य चैधरी और संस्तुष्टि अग्रवाल ने प्राप्त किया। कविता वाचन की प्रतियोगिता के द्वितीय वर्ग में प्रशस्ति श्रीवास्तव और प्रकर्ष शर्मा ने प्रथम स्थान श्रीवत्स गोस्वामी और दिव्य तायल ने द्वितीय स्थान तथा तृतीय स्थान कनिष्का जैन ने प्राप्त किया। वहीं सम्भाषण प्रतियोगिता में कक्षा 6 से मान्वी जिंदल, कक्षा 7 से आर्ची अग्रवाल तथा कक्षा 8 से अनन्या श्रीवास्तव को विजयी घोषित किया गया। सभा का संचालन श्रीमती अंकिता जैन ने किया।

इस अवसर पर आरके एजूकेशन हब के चैयरमेन डा. रामकिशोर अग्रवाल और वाइस चैयरमेन पंकज अग्रवाल ने कहा कि इस प्रकार की प्रतियोगिताओं के आयोजन द्वारा बच्चों में मंच पर प्रस्तुतीकरण के प्रति आत्मविश्वास की भावना का विकास होता है। ये बच्चे हमारे देश का भविष्य हैं। उन्हें देश में पनप रही समस्याओं के प्रति जागरूक होने की आवश्यकता है। इस प्रकार की प्रतियोगिताओं का आयोजन प्रत्येक वर्ष करना चाहिए।

स्कूल के मैनेंिजंग डायरेक्टर मनोज अग्रवाल जी ने बच्चों की गेयात्मक कविता वाचन क्षमता की प्रशंसा की। कहा कि छात्रों के मध्य इस प्रकार की स्पर्धा होते रहने से वे अपने मन में उठने वाले विचारों को सभी के समक्ष व्यक्त कर पाते हैं । स्कूल के प्रधानाचार्य शैलेन्द्र सिंह ग्रेवाल ने छात्रों की अद्भुत वाचन क्षमता की सराहना की। कहा कि स्कूल एक ऐसा माध्यम है जहां प्रतियोगिताओं का आयोजन कर उन्हें हर क्षेत्र से अवगत कराते हैं। उन्हें प्रत्येक विषय वस्तु की जानकारी प्रदान करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »