संस्कृति विवि में सिर चढ़कर बोला Himesh का जादू

मथुरा। संस्कृति विश्वविद्यालय का मैदान बाॅलीवुड गायक Himesh Reshammiya के गानों से देर रात तक गूंजता रहा। युवा पीढ़ी की लगातार मांग पर हिमेश एक के बाद एक गीतों की फरमाइश पूरी करते रहे। संस्कृति विश्वविद्यालय के माहौल से ओत-प्रोत हिमेश रेशमिया ने अपने गीतों के बीच में बार-बार कहा कि यहां बृज भूमि में आकर मुझे इतना आनंद और मन की शांति मिली है, जितनी विश्वभर में कहीं नहीं मिली। आज मैं बहुत खुश हूं और आपको मेरे गानों में यह महसूस भी हो रहा होगा।

फ्लैश लाइटों के सतरंगी प्रकाश में अत्याधुनिक साउंड सिस्टम की धमक ने मौजूद श्रोताओं की धड़कनें बढ़ा दी थीं, और उसपर जब Himesh Reshammiya ने अपने लोकप्रिय गीत, झलक दिखला जा, एक बार आ जा, गीत से शुरुआत की तो संस्कृति विवि के छात्र-छात्राएं व अन्य युवा पीढ़ी का उत्सह देखने लायक था। आशिकी में मेरी, जा जा जाएगी जान मेरी, आशिक बनाया, आशिक बनाया आपने, जैसे हिट गीतों पर युवा दीवाने हो उठे। गाने की एक एक लाइन पर साथ देती युवा पीढ़ी नाचने के लिए मंच के नजदीक तक पहुंच गई। हिमेश भी अपने इतने सारे फैन के इस प्यार पर मुग्ध होकर पूरे जोश से नजदीक पहुंच कर गायकी लुत्फ ले रहे थे।

इन रोमांटिक गीतों के बीच-बीच में मेरी तेरी, तेरी मेरी और तेरा फितूर जब से चढ़ गया है, एक हसीना थी, दिल दिवाना था जैसे दर्द में पिरोए हुए गीतों को भी पूरी शिद्दत से हिमेश ने गाए तो लोगों ने उसी शिद्धत से उनको सुनकर तालियों के दौरा अपनी भावनाए व्यक्त कीं। यह दौर चलता रहा और कब रात हो गई पता ही नहीं लगा। हजारों लोग देर रात तक जमे रहे जो हिमेश की लोकप्रियता का ही सबूत था। इस दौरान संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति सचिन गुप्ता और प्रति कुलाधिपति राजेश गुप्ता ने संस्कृति विश्वविद्यालय में उनके आगमन पर मोमेंटो प्रदान कर सम्मानित किया।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »