कई शारीरिक समस्‍याएं पैदा कर सकती हैं High heels

High heels भले एक लंबे अरसे से फैशन के मामले में महिलाओं की पहली पसंद रहे हों, मगर मेडिकल एक्सपर्ट का मानना है कि इन्हें पहनने से कमर दर्द, पैरों और टखनों की समस्या भी होती है। हालांकि ज्यादातर महिलाओं को यह नहीं पता है कि High heels के फुटवेअर पहनने से पेट पर भी प्रभाव पड़ता है।
कई अध्ययनों के अनुसार अगर एड़ियों की ऊंचाई 5 इंच से ज्यादा है तो इसकी वजह से महिलाओं को गर्भधारण करने में परेशानी हो सकती है।
High heels से होती है गर्भधारण में परेशानी
फिल्मी हस्तियों को देखकर हाई हील्स का चलन अब आम लोगों में भी जोर पकड़ चुका है। हालांकि यह देखने में बहुत ही आकर्षक लगती हैं।
हो सकती है बांझपन की समस्या!
गाइनकॉलजिस्ट और आईवीएफ एक्सपर्ट डॉ. पूजा सिंह बताती हैं, ‘एड़ियां जितनी पतली होंगी, उतनी समस्या अधिक होगी। ऐसा इसलिए क्योंकि इसके कारण पेल्विस आगे की ओर झुक जाता है जो कमरदर्द का प्रमुख कारण बनता है। पेल्विक गुहा में कई अंग होते हैं और जब एक बार यह झुक जाता है तो पेट के अंदर के सभी अंग और संरचनाएं पेल्विस के अगले भाग से टकराते हैं, जिससे गर्भधारण की संभावना कम हो जाती है। इसके कारण गैस्ट्रिक की कार्यप्रणाली धीमी पड़ जाती है, मासिक चक्र संबंधी गड़बड़ियां हो जाती हैं और अंततः बांझपन की समस्या भी हो सकती है।’
वह आगे कहती हैं, ‘यहां तक कि अगर आप लंबे समय तक High heels पहनेंगे तो उससे टखनों, पैरों, कमर, कंधों में दर्द, सिरदर्द और बाल झड़ने की समस्या हो सकती है। यह शरीर की हर जोड़ और मांसपेशियों की गतिविधि को प्रभावित करता है।’
कम उम्र में पड़ता है ज्यादा असर
छोटी बच्चियां जैसे ही किशोरावस्था में प्रवेश करती हैं तो उनके शरीर में शारीरिक और मनोवैज्ञानिक बदलाव आने लगते हैं लेकिन पैरों की हड्डियां, पेल्विस और रीढ़ की हड्डी इतनी विकसित नहीं होती और ऊंची एड़ियों (बाहरी दबाव) के प्रभाव में आसानी से मुड़कर विकृति पैदा कर सकती हैं।
डॉक्टर्स के अनुसार, ‘लड़कियों को कभी भी High heels जूते-चप्पल नहीं पहनने चाहिए क्योंकि इससे उन्हें अधिक खतरा होता है। छोटी उम्र की लड़कियों का शरीर पूरी तरह विकसित नहीं होता है, ऐसे में अगर वे ऊंची एड़ी के जूते-चप्पल पहनना शुरू कर दें तो उनका झुका हुआ पॉश्चर गर्भाशय को उसकी नियत स्थिति से हटा देता है जिसके कारण मासिक चक्र, संभोग और दूसरे प्रजनन तंत्र से संबंधित कार्यों के दौरान दर्द होता है।’
समस्याएं और भी हैं
विशेषज्ञों की मानें तो जो लड़कियां High heels फुटवेअर्स ज्यादा पहनती हैं, उन्हें अन्य कई तरह की समस्याओं का भी सामना करना पड़ सकता है। खासकर, शादी के बाद उन्हें बच्चे को जन्म देने में बहुत परेशानी भी हो सकती है, दर्द भी अधिक होता है और मातृत्व संबंधी अन्य कई तरह की समस्याएं भी हो सकती हैं।
…और रेड कार्पेट पर नंगे पैर चल दीं क्रिस्टीन
कान फिल्म फेस्टिवल में पहुंचे दर्शक उस वक्त हैरान रह गए, जब रेड कार्पेट पर High heels पहनकर पहुंची अमेरिकन अभिनेत्री और फिल्म मेकर क्रिस्टीन स्टीवर्ट ने अपनी हील्स उतार दीं और उन्हें हाथों में लेकर नंगे पैर ही रेड कार्पेट पर चलना शुरू कर दिया। दरअसल, क्रिस्टीन को हील्स में सीढ़िया चढ़ने में परेशानी महसूस हो रही थी इसलिए उन्होंने हील्स उतारकर ही आगे बढ़ना बेहतर समझा। गौरतलब है कि अभी तक रेड कार्पेट पर तमाम महिलाओं के सिर्फ High heels पॉलिसी ही लागू है। यानी कि वे सिर्फ हाई हील्स पहनकर ही रेड कार्पेट पर वॉक कर सकती हैं लेकिन स्टीवर्ट हमेशा से इस पॉलिसी की विरोधी रही हैं, बल्कि उन्होंने कान फिल्म फेस्टिवल में खुलेआम इस पर विरोध भी जता दिया। यह बात और है कि आयोजकों ने स्टीवर्ट को बीच में ही रोककर दोबारा हील्स पहनने के लिए कहा। गौरतलब है कि महिलाओं के कान फिल्म फेस्टिवल में High heels ओनली ड्रेस कोड 2015 में उस दौरान भी चर्चा में आया था, जब तमाम महिलाओं को स्क्रीनिंग में हिस्सा लिए बिना लौटना पड़ा था क्योंकि उन्होंने फ्लैट शूज पहने हुए थे। इससे पहले भी महिलाएं कईं मौकों पर जबरन High heels पहनाने का विरोध कर चुकी हैं। उनका मानना है कि हील्स को उन पर जबरन थोपा गया है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »