हाईकोर्ट ने बाबा जयगुरुदेव की समाधि के प्रकरण का निस्‍तारण किया, समाधि के निर्माण पर रोक फिलहाल बरकरार

High Court disposes of episode of Baba Jai Gurudev's Samadhi, Restriction on the construction of Samadhi
हाईकोर्ट ने बाबा जयगुरुदेव की समाधि के प्रकरण का निस्‍तारण किया

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने आज मथुरा स्‍थित जयगुरुदेव धर्म प्रचारक संघ द्वारा विकास प्राधिकरण से नक्‍शा पास कराए बगैर जयगुरूदेव मंदिर के पास सरकारी जमीन पर बनाई जा रही जयगुरूदेव की समाधि की याचिका का निस्‍तारण करते हुए याचिकाकर्ता से शासन के समक्ष पिटीशन दायर करने को कहा है क्‍योंकि शासन ने ही जयगुरूदेव धर्म प्रचारक संघ को उक्‍त जमीन पट्टे पर दे रखी है।
उच्‍च न्‍यायालय ने पिटीशन दायर करने के लिए निर्धारित चार सप्‍ताह के समय तक समाधि के निर्माण कार्य पर रोक को जारी रखा है।
उल्‍लेखनीय है कि जयगुरूदेव धर्म प्रचाारक संघ ने बाबा जयगुरूदेव की मृत्‍यु के उपरांत मथुरा स्‍थित जयगुरूदेव मंदिर के पास सरकारी जमीन पर बाबा की एक भव्‍य व विशाल समाधि का निर्माण कार्य शुरू कराया किंतु आश्रम पर काबिज लोगों ने स्‍थानीय डेवलेपमेंट अथॉर्टी मथुरा-वृंदावन विकास प्राधिकरण से समाधि का नक्‍शा पास कराना जरूरी नहीं समझा।
आश्रम पर काबिज लोगों की मनमानी को देखते हुए बाबा के ही अनुयायी शैलेन्‍द्र व चन्‍द्रभाल ने इस मामले के खिलाफ एक रिट जून 2016 के दौरान इलाहाबाद हाईकोर्ट में दाखिल की।
इलाहाबाद हाईकोर्ट ने समाधि के निर्माण पर स्‍टे लगाते हुए आश्रम पर काबिज लोगों सहित मथुरा-वृंदावन विकास प्राधिकरण से भी जवाब तलब किया।
याचिकाकर्ताओं के अधिवक्‍ता विनोद पांडेय ने इस संबंध में जानकारी देते हुए लीजेंड न्‍यूज़ को बताया कि आश्रम पर काबिज लोगों ने नोटिस के जवाब में एक कंपाउडिंग नक्‍शा इलाहाबाद हाईकोर्ट में दाखिल किया जिसे कोर्ट ने स्‍वीकार नहीं किया और कहा कि कंपाउंडिंग के जरिए हर अवैध निर्माण को वैध नहीं ठहराया जा सकता।
इलाहाबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्‍टिस डी बी भौसले की कोर्ट ने आज समाधि के निर्माण संबंधी याचिका का निस्‍तारण करते हुए याचिकाकर्ताओं से शहरी अरबन डेवलेवमेंट विभाग में पिटीशन दाखिल करने को कहा है।
कोर्ट के अनुसार चूंकि शहरी अरबन डेवलेवमेंट विभाग द्वारा ही जयगुरूदेव धर्म प्रचारक संघ को यह जमीन पट्टे पर दी थी इसलिए उस पर बन रही समाधि के निर्माण पर निर्णय लेने का उसे पूरा अधिकार है।
-लीजेंड न्‍यूज़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *