उप्र के स्वयं सहायता समूह की महिलाओं के हर्बल गुलाल विदेशों में भी रंग बिखेरेंगे

लखनऊ। स्वयं सहायता समूह की महिलाओं के हाथों बने हर्बल गुलाल से अब ब्रिटेन और अमेरिका में होली खेली जाएगी। उप्र राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत संचालित स्वयं सहायता समूह की महिलाएं इस होली के मौके पर लाल, हरे, नीले, बैंगनी, गुलाबी रंग का हर्बल गुलाल और हर्बल रंग तैयार कर रही हैं। अमेरिका और लंदन से हर्बल कलर और गुलाल की अब तक 32 कुंतल की मांग आ चुकी है। ऑर्डर तैयार हो चुका है। एक-दो दिन में उसे भेज दिया जाएगा।
पहले दी गई ट्रेनिंग, ऑनलाइन बाजार भी मिला
राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के निदेशक योगेश कुमार ने बताया कि हर्बल रंग और गुलाल तैयार करने के लिए इच्छुक स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को पहले ट्रेनिंग दी गई है। अभी भी ट्रेनिंग चल रही है साथ ही महिलाओं के तैयार किए गए उत्पादों को ऑनलाइन प्लेटफॉर्मों (एमेजॉन, फ्लिपकार्ट) के जरिए बेचा जा रहा है। इतना ही नहीं, समूह की महिलाओं के उत्पादों की और अधिक बिक्री करवाने के लिए प्रदेश के सभी ब्लॉकों के प्रमुख बाजारों में मिशन की ओर होली तक जगह भी मुहैया करवाई जा रही है।
गुझिया और पापड़ की भी तैयारी
सिर्फ हर्बल रंग और गुलाल ही नहीं, समूह की महिलाएं होली से संबंधित पकवान भी तैयार कर रही हैं। इनमें गुझिया, खुरमा, साखें, मठरी के साथ आलू और साबूदाना के पापड़, चावल और आलू की कचरी और चिप्स भी हैं। बनाने से लेकर पैकिंग तक महिलाएं पूरी तरह मास्क, टोपी और हाथ में प्लास्टिक के गल्वस पहन कर काम कर रही हैं। ये पकवान पूरी गुणवत्ता और साफ-सफाई से मिशन के अधिकारियों की देर रेख में बनवाए जा रहे हैं। स्वयं सहायता समूह की महिलाएं होली के रंग, गुलाल और पकवानों का उत्पादन प्रमुख रुप से प्रदेश के 14 जिलों में कर रही हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *