Hemkund साहिब, लक्ष्मण मंदिर के कपाट खुले, 8000 यात्रियों ने किए दर्शन

गोपेश्वर। शनिवार को सिखों के पवित्र तीर्थ पांचवें धाम के रूप में स्थापित Hemkund साहिब और लोकपाल लक्ष्मण मंदिर के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए। Hemkund में पहले दिन आठ हजार से अधिक यात्री पहुंचे हैं। वहीं, फूलों की घाटी भी पर्यटकों के लिए खो दी गई है।

हेमकुंड साहिब के कपाट शनिवार सुबह 10:30 बजे खोले गए। हेमकुंड में छह फिट से अधिक बर्फ जमी होने के कारण हेमकुंड साहिब के कपाट देर से खोले गए। शनिवार सुबह 5:30 बजे घांघरिया से पंचप्यारे के अगुआई में पहला जत्था हेमकुंड पहुंचा।

हेमकुंड पहुंचने पर 10:30 बजे पंचप्यारे के अगुआई में सच्चखंड साहिब से गुरुग्रंथ साहिब को लाया गया। दरबार साहिब में हजारों श्रद्धालुओं ने हेमकुंड सरोवर में आस्था की डुबकी लगाई। इसी के साथ लोकपाल लक्ष्मण मंदिर के कपाट खोले गए। भारी भीड़ और रास्ते के वजह से दो हजार सिख श्रद्धालुओं को घघांरिया में रोका गया है।

गोविंदघाट गुरुद्वारे में गढ़वाल मंडल के आयुक्त बीवीआरसी पुरुषोत्तम ने हेमकुंड साहिब के लिए यात्रियों के जत्थे को रवाना किया। इससे पूर्व गुरुद्वारे में पाठ, कीर्तन हुआ। जत्थे में पंच प्यारे सबसे आगे रहे।

गोविंदघाट गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के वरिष्ठ प्रबंधक सेवा सिंह ने बताया कि शनिवार सुबह श्रद्धालुओं का पहला जत्था घांघरिया से चलकर हेमकुंड साहिब पहुंचा। इसके बाद विधि विधान के साथ सुबह नौ बजे हेमकुंड साहिब के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए।

हेमकुंड की यात्रा तैयारियों के संबंध में मंडलायुक्त वीवीआरसी पुरुषोत्तम ने बताया कि इस बार भारी बर्फबारी के चलते पैदल मार्ग पर बर्फ जमी है। इसके बावजूद यात्रा को सुगम बनाने की सभी तैयारियां की गई हैं।

हेमकुंड साहिब के बारे मेें

हेमकुंड साहिब सिखों का सबसे ऊंचा और सबसे पवित्र तीर्थस्थल है, जहां हर साल लाखों सिख श्रद्धालु माथा टेकते हैं। यह तीर्थस्थल समुद्रतल से 15225 फिट की ऊंचाई पर स्थित है। कपाट खुलने से पहले पंच प्यारो की अगुवाई में यात्री गोविंदघाट से हेमकुंड साहिब के लिए प्रस्थान करते हैं। जिसको लेकर पंच प्यारे पंजाब से गोविंदघाट पहुंच चुके हैं। 31 मई को गोविंदघाट गुरुद्वारा में गुरु का हुकुमनामा लेकर पंच प्यारों के नेतृत्व में यात्रा रवाना होगी। एक जून को पंचप्यारे घांघरिया से हेमकुंड पहुंचेंगे। गर्भगृह सचखंड से गुरुग्रंथ साहिब को दरबार साहिब में लाकर हेमकुंड साहिब के कपाट खुलेंगे। पंच प्यारे सिखों के दसवें और अंतिम गुरु गोविंद सिंह के सबसे समर्पित वीर थे।- एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *